DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Asian Games में देश को कांस्य पदक दिलाने वाले हरीश कुमार चाय बेचने को मजबूर

हरीश ने कहा कि मैं चाय की दुकान पर पिता की मदद करता हूं। इसके साथ ही 2 बजे से 6 बजे तक चार घंटे खेल का अभ्यास करता हूं

हरीश कुमार (एएनआई फोटो)

एशियन गेम्स में कांस्य पदक जीतकर देश का नाम रोशन करने वाले हरीश कुमार एक बार फिर अपनी चाय की दुकान पर पहुंचे गए हैं। उनके घर की आजीविका इस चाय की दुनाक पर ही टिकी है। 

न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में हरीश कुमार ने खुलकर बताया कि उनका परिवार बड़ा है और आय का श्रोत कम है। हरीश ने कहा कि मैं चाय की दुकान पर पिता की मदद करता हूं। इसके साथ ही 2 बजे से 6 बजे तक चार घंटे खेल का अभ्यास करता हूं।उन्होंने कहा कि परिवार के बेहतर भविष्य के लिए अच्छी नौकरी करना चाहता हूं।

याद दिला दें कि हाल ही में देश की तरफ से एशियन गेम्स में खेलते हुए हरीश ने कांस्य पदक जीता था। मेडल जीतने के बाद वे जमीन से जुड़े हुए हैं। या यूं कह लीजिए परिवार के लिए सबकुछ करने के लिए तैयार हैं। खेल से खाली होने के बाद एक बार फिर वे अपने पिता के साथ चाय की दुकान पर हाथ बंटा रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:harish kumar medal winner selling tea with father after asian games 2018