DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   जब अमेज़न संग जुड़ी हिन्दी भाषा, गाज़ियाबाद की सीमा ने खोजी परिवार की सेहत के लिए नई आशा

sponsored storiesजब अमेज़न संग जुड़ी हिन्दी भाषा, गाज़ियाबाद की सीमा ने खोजी परिवार की सेहत के लिए नई आशा

HT Brand Studio,GhaziabadPublished By: Pratyush Chaurasia
Wed, 26 May 2021 02:29 PM
जब अमेज़न संग जुड़ी हिन्दी भाषा, गाज़ियाबाद की सीमा ने खोजी परिवार की सेहत के लिए नई आशा

आज के वक्त में खुद की सेहत का ध्यान रखना बेहद ज़रूरी है. जहां कई लोग घर से ही काम कर के सेहत का ख्याल रख रहे हैं वहीं कई लोगों के पास ये विकल्प नहीं है. कई लोग आज भी अपने काम के लिए बाज़ार जा रहे हैं, दुकाने खुल रही हैं और खरीददारी हो रही है. ऐसे में खुद की सुरक्षा और इम्यूनिटी का ख्याल रखना बेहद ज़रूरी है. गाज़ियाबाद की रहने वाली सीमा भी इसी सोच के साथ अपनी दिनचर्या में कई बदलाव कर चुकी हैं. इसी बीच अखबार में सीमा ने तांबे की बोतल से पानी पीने से इम्यूनिटी बढ़ने की बात पढ़ी. 

तांबे के बर्तन के पानी पीने के कई फायदे हैं, ऐसा वह अपने बुर्जुगों से सुन चुकी थीं, लेकिन कभी गौर नहीं किया. ऐसे में अखबार का लेख और मौजूदा स्थिति में उन्होंने तांबे का मटका खरीदने का सोचा. सीमा ने अपनी सहेली के घर तांबे का मटका देखा था. यह लेख पढ़ने के बाद उसके दिमाग में वही आया. फिर तलाश शुरू हुई तांबे के मटके की जोकि बाज़ार में बहुत ढूंढने पर भी सीमा को नहीं मिला।

आखिर में जब सीमा ने अपनी सहेली से पूछा तो उसने बताया कि उसने वो अमेज़न से खरीदा है. सीमा के लिए अमेज़न से शॉपिंग करना नई चीज़ थी. इससे पहले उसने कोई भी ऑनलाइन शॉपिंग नहीं की थी. वजह थी सीमा का गैजेट फ्रेंडली न होना और दूसरा अंग्रेज़ी की दीवार. 
सीमा ने कई बार लोगों को ऑनलाइन शॉपिंग करते देखा था, तो उन्होंने भी इसे ट्राई करने का सोचा. सीमा ने ऐप खोला तो उसे देखते-देखते उनकी नज़र भाषा पर गई, जिसे हिन्दी करने का विकल्प था. उसे चुनते ही सीमा के लिए सब समझना आसान हो गया था. 

उसके बाद उन्होंने जैसे ही खोजने के लिए तांबे का मटका लिखा, तो उनकी नज़रों के सामने तरह-तरह के तांबे के मटकों की एक पूरी लिस्ट आ गयी. जिस एक तांबे के मटके को ढूंढने के लिए वो कई दिनों से अपने आस-पास के हर बाज़ार में भटक चुकी थीं, वो उन्हें अमेज़न पर इतनी आसानी से मिल जाएगा, इसकी उन्हें बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी. अमेज़न पर उन्हें एक नहीं, बल्कि कई तांबे के मटके अलग-अलग साइज़ और डिज़ाइन में दिखे, जिसमें से सीमा जी ने बड़े आराम से अपनी पसंद का मटका चुनकर उसे चुटकियों में ऑर्डर कर दिया. 

सबसे बड़ी बात, बाज़ार की तरह अमेज़न पर सीमा जी को मटके की कीमत के लिए कोई मोल भाव करने की भी ज़रूरत नहीं पड़ी आखिर इतने सारे मटकों में से उन्हें अपने बजट का मटका चुनने की आज़ादी जो मिली.

सीमा की तरह आप भी अमेज़न पर सिर्फ मटका ही नहीं, अपने पसंद की कोई भी चीज बड़ी आसानी से चुन सकते हैं, वो भी अपनी हिन्दी भाषा के साथ.
 

संबंधित खबरें