DA Image

अगली स्टोरी

  • लखनऊ। निज संवाददाता एक शाही परिवार के राजा की प्रेम कहानी पर आधारित व राजस्थानी पृष्टभूमि पर आधारित स्टार प्लस के नये शो ‘लव का है इंतजार‘का प्रमोशन करने धारावाहिक में कामिनी माथुर का किरदार निभा...

  • असफलताएं भी महत्वपूर्ण : रजत कपूर

    अभिनेता रजत कपूर अपने फिल्मी करियर में अब तक कई उतार-चढ़ाव देख चुके हैं, मगर अपनी असफलताओं से वह डरे नहीं हैं। रजत ने बताया कि मेरी पत्नी कहती हैं कि मेरे लिए जमीन से जुड़े रहने के लिए नाकामयाबी...

  • राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता अभिनेत्री डॉली अहलुवालिया आने वाली फिल्म ‘बजाते रहो’ में मुख्य भूमिका में नजर...

  • बजेन्द्र काला के जीवन में कई सकारात्मक बदलाव हुए हैं और वह जल्द ही ऋषि कपूर, नीतू सिंह और रणबीर कपूर को पहली बार साथ लेकर बन रही फिल्म 'बेशरम' में विलेन की भूमिका निभाने की तैयारी में जुटे...

  • फिल्म जूली में अपने बोल्ड किरदार के लिए चर्चा में रहीं अभिनेत्री नेहा धूपिया का कहना है कि फिलहाल वह इस फिल्म के सीक्वल के बारे में नहीं सोच रहीं, लेकिन कुछ साल बाद कर सकती...

  • सतीश कौशिक (किरोड़ीमल कॉलेज) सतीश कौशिक का नाम लेते ही हमें फिल्म ‘मिस्टर इंडिया’ का किरदार ‘कैलेंडर’ की याद आती है। सतीश कौशिक देश के जानेमाने फिल्म निर्माता, निर्देशक और...

  • फिल्म का अनोखा कास्ट ही उसकी मजबूती : लारा

    अपनी नई फिल्म 'दिल्ली चलो' में अभिनेता विनय पाठक के साथ काम कर रही अभिनेत्री लारा दत्ता का कहना है कि इस फिल्म का अनोखा कास्ट ही इसकी मजबूती है और इसी वजह से लोग इस छोटे बजट की फिल्म को देखने...

  • मांगता है क्या मल्टीप्लेक्स या मसाला

    पिछले सप्ताह रोहुल बोस की फिल्म ‘दि जैपनीज वाइफ’ रिलीज हुई। दिल्ली जैसे बड़े शहर में यह बमुश्किल कोई 10-12 सिनेमाघरों में रिलीज हुई होगी। इनमें से कोई भी सिंगल स्क्रीन थियेटर नहीं था। यह...

  • विनय पाठक बने ‘एसआरके’!

    अब ‘एसआरके’ के नाम से फिल्म की घोषणा है।। चौंकना स्वाभाविक है, क्योंकि दिमाग में तुरंत शाहरुख खान का नाम आता है। पर इस फिल्म का शाहरुख खान से कुछ लेना-देना नहीं है। इस फिल्म का निर्माण कर...

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

घर में शौचालय बनाने के फायदे

टीचर- बच्चों बताओ, घर-घर शौचालय बनाने के क्या फायदे हैं?
सोनू- मास्टर साहब, वातावरण शुद्ध रहता है...
टीचर- शाबाश... और दूसरा...
सोनू- आगे नहीं सरकना पड़ता...