अगली स्टोरी

  • बागेश्वर सरयू नदी में युवक बहा

    अग्निकुंड के समीप एक युवक नहाने का प्रयास कर रहा था। वह सरयू की तेज लहरों में समा गया। उसे बहते लोगों ने देखा। वे चिल्लाए। मदद के लिए पुलिस के फोन खंगाले। लेकिन युवक को बहने से कोई बचा नहीं सका। करीब...

  • गोमती में डूबा नवोदय विद्यालय का छात्र

    जवाहर नवोदय विद्यालय सिमार के एक छात्र की गोमती नदी में नहाते समय डूबने से मौत हो गई है। वह दसवीं का छात्र था। उसके दो साथियों ने उसे डूबने से बचाने के लिए पूरी कोशिश की, लेकिन वे हार गए। घटना के बाद...

  • बागेश्वर में तापमान 36 डिग्री सेल्यिस पार

    नगर में तापमान में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। जंगलों में आग लगना भी तापमान बढ़ने का एक कारण हो सकता है। गर्मी बढ़ने से लोगों ने नदी की तरफ रुख करना शुरू कर दिया है। लोगों गर्मी से राहत पाने के लिए...

  • चलो लगाएं नाव की रेस

    कागज की नाव बनाना तो तुम जानते ही होगे न। चलो आज तुम्हें इसी नाव से जुड़े एक खेल के बारे में बताते हैं। इसे खेलने के लिए तुम्हें चाहिए होंगे अपने दोस्तों की संख्या के बराबर ए-4 साइज के पेपर और एक बड़ा...

  • विकासनगर/हमारे संवाददाता प्रथम एजुकेशन फॉउंडेशन के तत्वावधान में रापूमा विद्यालय धर्मावाला में दो दिवसीय बाल विज्ञान मेला बुधवार को संपन्न हुआ। मेले में विज्ञान िमत्र अश्वनी शर्मा ने स्कूली...

  • बादल और बारिश की ये है असली कहानी...

    रिमझिम बारिश में भीगना और बारिश के पानी में कागज की नावें तैराना तुम्हें जरूर अच्छा लगता होगा। बारिश हमारी धरती और पर्यावरण को पानी की आपूर्ति ही नहीं करती, यह मानव, पशु-पक्षियों और पेड़-पौधों के लिए...

  • आ गया है मानसून। मतलब खूब सारी बारिश और टर्र-टर्र करते मेंढ़क, मम्मी के हाथ का बना गर्म सूप और कागज की नाव तैराने का...

  • बारिश का मतलब है खूब भीगना, मस्ती करना, पानी में कागज की नावें चलाना, कछुए पकड़ना और कीचड़ से सारे कपड़े गंदे करके मम्मा से डांट खाना। तो अब तुम सभी का ये फेवरेट मौसम आ चुका...

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

बेटे ने पापा से कहा मुझे बाइक दिला दो पिताजी..

बेटा, पापा से: मुझे बाइक दिला दो 

पिताजी: भगवान जी ने टांगे किस लिए दी है?

बेटा: एक टांग किक मारने के लिए और दूसरी गियर डालने के लिए 

फिर क्या....... दे थप्पड़ पे थप्पड़