DA Image

अगली स्टोरी

  • थाना अजीमनगर के गांव साल्वे नगर से रामपुर जनपद को जोड़ने वाला रास्ते पर पड़ने वाला पुल पिछले चार साल से टूट कर क्षतिग्रस्त हो गया...

  • डयूटी से गैरहाजिर मिलीं चार आंगनबाड़ी कार्यकत्री की जिलाधिकारी ने सेवा समाप्त कर दी है। इससे पहले सुनवाई का मौका भी दिया गया, लेकिन वे संतोषजनक जवाब नहीं दे सकीं। सेवा समाप्ति की कार्रवाई से...

  • गम्मनपुरा कांड : पचास हजार का इनामी मुर्तजा पांच साल बाद गिरफ्तार

    गम्मनपुरा कांड का पचास हजार रुपए के इनामी बदमाश को एसओजी टीम ने पाकबड़ा से शनिवार सुबह गिरफ्तार किया। उसने मामूली बात को लेकर अनीस बैल के साथ मिलकर तीन सगे भाइयों समेत चार लोगों की हत्या कर दी थी।...

  • पुलिस ने लूट और हत्या समेत अनेक संगीन मामलों में फरार चल रहे पांच हजार के इनामी बदमाश को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। पुलिस का दावा है कि उसने चोरी की अनेक घटनाएं करने की बात कुबूल की हैं।...

  • मामला पाकबड़ा के गम्मनपुरा गांव का है। गांव में महिला गीता की शादी वीर सिंह के पुत्र विनोद के साथ 2002 में हुई थी। शादी के बाद ससुराल में दहेज को लेकर विवाद रहने लगा। आरोप है कि विनोद अपनी पत्नी से...

  • मुरादाबाद। गम्मनपुरा में चार किसानों की हत्या की सभी राजनीतिक दलों व समाजिक संगठनों ने निंदा की है। मानव सेवा समाज ने मुफ्ती टोला में एक शोक सभा का आयोजन कर किसानों को श्रद्धांजलि दी। मानव सेवा समाज...

  • अमरोहा। असमौली थाना क्षेत्र के गांव गम्मनपुरा के चार दलितों की अपहरण के बाद हत्या की भाजपा नेता व पूर्व पालिकाध्यक्ष अतुल जैन ने कड़े शब्दों में भर्त्सना की। कहा कि केवल घटना के बाद मुआवजे की घोषणा से...

  • संभल। यूथ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सपा सरकार में बढ़ रही अपराधिक घटनाओं के विरोध में नगर में जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। कांग्रेसियों ने सीओ को ज्ञापन सौंपकर बलात्कार, हत्या, लूट आदि अपराधों पर...

  • मुरादाबाद जिले में चार दलितों को अगवा करके उनकी हत्या कर दी गई। पुलिस ने इस संबंध में एक आरोपी को गिरफ्तार कर उसकी निशानदेही पर चारों शव जमीन के अंदर से बरामद कर...

  • संभल। असमोली थाना क्षेत्र के दो गांवों में आबकारी विभाग ने छापेमारी की। जहां से करीब सौ लीटर कच्ची शराब एक हजार लीटर शराब बनाने का लाहन तथा उपकरण बरामद किए। टीम को देखकर आरोपी भाग गए। मुखबिर की...

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

माफ़ कीजिए आप जो खबर ढूंढ रहे हैं , वह उपलब्ध नहीं है

हमारे मार्क्स देखकर टीचर की हालत

आजकल के बच्चे कम नंबर लाने पर जान देने के बारे में सोचने लगते हैं.... 



एक हमारा टाइम था। जब हमारे नंबर देखकर मास्टरसाहब की इच्छा जान देने की होती थी।