ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानभारत आदिवासी पार्टी क्या NDA का साथ देगी? जानिए क्या बोले राजकुमार रौत 

भारत आदिवासी पार्टी क्या NDA का साथ देगी? जानिए क्या बोले राजकुमार रौत 

राजस्थान में डूंगरपुर-बांसवाड़ा से सांसद राजकुमार रौत ने साफ कर दिए है कि उनकी बीएपी पार्टी विपक्ष के साथ स्वतंत्र रहकर आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों के हक की लड़ाई लड़ेगी। एनडीए में शामिल होने से इंकार।

भारत आदिवासी पार्टी क्या NDA का साथ देगी? जानिए क्या बोले राजकुमार रौत 
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरFri, 07 Jun 2024 04:07 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में डूंगरपुर-बांसवाड़ा से सांसद राजकुमार रौत ने साफ कर दिए है कि उनकी बीएपी पार्टी विपक्ष के साथ स्वतंत्र रहकर आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों के हक की लड़ाई लड़ेगी। बांसवाड़ा संसदीय क्षेत्र में हमारा एनडीए में शामिल होने की झूठी खबरें फैलाकर विरोधी खुश हो रहे है। BAP के सांसद राजकुमार रोत भी इंडिया गठबंधन की बैठक में नहीं बुलाए जाने से नाराज है। उनका कहना है कि BAP को कांग्रेस तवज्जो नहीं दे रही है। राजस्थान में चर्चा है कि BAP जल्द ही NDA का हिस्सा बन सकती है। लेकिन रौत ने साफ कर दिया है कि वह एनडीए का हिस्सा नहीं बनेंगे। 

दरअसल, राजस्थान में कांग्रेस ने हनुमान बेनीवाल की पार्टी आरएलपी के साथ गठबंधन किया था। बदले में नागौर की सीट हनुमान बेनीवाल को दी गई थी। इस सीट से बेनीवाल जीत गए। नतीजों के बाद इंडिया की बैठक में हनुमान बेनीवाल को बुलाया नहीं गया। इससे वह नाराज हो गए। उनका कहना है कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) और मुझे नजरअंदाज किया जा रहा है, इस कारण मेरी इंडिया गठबंधन से नाराजगी है, लेकिन मैं बीजेपी के साथ भी नहीं जा रहा हूं।

इंडिया गठबंधन का हिस्सा बनने से पहले आरएलपी का गठबंधन का बीजेपी के साथ था. 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने आरएलपी के लिए नागौर सीट छोड़ी थी। इस सीट से हनुमान बेनीवाल चुनाव लड़े और जीते थे, लेकिन कृषि कानूनों को लेकर उनकी बीजेपी के साथ अनबन हो गई। 2020 में हनुमान बेनीवाल ने बीजेपी का साथ छोड़ दिया था। 2023 के विधानसभा चुनाव में आरएलपी ने चंद्रशेखर रावण की पार्टी से गठबंधन किया था, लेकिन कोई कामयाबी न मिली थी।