ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानराजस्थान का CM कौन? वसुंधरा की विधायकों के साथ टी-पार्टी के बीच दिल्ली में बढ़ी सरगर्मी

राजस्थान का CM कौन? वसुंधरा की विधायकों के साथ टी-पार्टी के बीच दिल्ली में बढ़ी सरगर्मी

राजस्थान की कमान किसे सौंपी जाएगी, सवालों के बीच जयपुर से दिल्ली से लेकर दिल्ली तक सोमवार को खासी सरगर्मी देखी गई। एक ओर वसुंधरा राजे की विधायकों से मुलाकात तो दूसरी ओर दिल्ली में हलचल तेज नजर आई।

राजस्थान का CM कौन? वसुंधरा की विधायकों के साथ टी-पार्टी के बीच दिल्ली में बढ़ी सरगर्मी
Krishna Singhलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीTue, 05 Dec 2023 01:20 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान की कमान किसे मिलेगी, इस सवाल के बीच भाजपा के खेमों में सोमवार को राजस्थान से लेकर दिल्ली तक सियासी सरगर्मी देखी गई। भाजपा प्रमुख सीपी जोशी ने सोमवार को दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा से उनके आवास पर मुलाकात की। वह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आफिस भी पहुंच और उनके साथ बैठक की। इस दौरान उनके साथ प्रदेश पार्टी प्रभारी अरुण सिंह भी मौजूद रहे। सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत और बालक नाथ भी संसद सत्र के चलते दिल्ली में मौजूद हैं। दूसरी ओर शाम तक जयपुर में भी सियासी ताप बढ़ गया जब भाजपा के करीब 25 विधायक वसुंधरा राजे मिलने उनके आवास पर पहुंच गए।

शाह और नड्डा के बीच चर्चा, दूसरी ओर विधायकों का जमावड़ा
समाचार एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के बीच भी चर्चा हुई। हालांकि नेताओं ने किस मसले पर बातचीत की बयान सामने नहीं आया। अटकलें उस वक्त तेज हो गई जब जयपुर में भाजपा के करीब 25 नवनिर्वाचित विधायकों ने पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से मुलाकात की। विधायक वसुंधरा राजे के सिविल लाइंस स्थित आवास पर उनसे मिले। ऐसे समय जब भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की ओर से सीएम चेहरे का ऐलान नहीं किया गया है, विधायकों की राजे से मुलाकात को शक्ति प्रदर्शन के रूप में देखा गया।

शिष्टाचार मुलाकात या कुछ और...
पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक, राजस्थान के विभिन्न जिलों से करीब 25 विधायक अलग-अलग समय पर राजे से उनके आवास पर मिले। इसे शिष्टाचार मुलाकात बताया गया जबकि कुछ विधायकों ने कहा कि राजे को राजस्थान का नेतृत्व करना चाहिए। नसीराबाद से भाजपा विधायक रामस्वरूप लांबा ने राजे से मुलाकात के बाद कहा- प्रधानमंत्री मोदी और वसुंधरा राजे के काम की वजह से ही राजस्थान में कमल खिला है। यह पूछे जाने पर कि क्या पार्टी विधायक मुख्यमंत्री पद के लिए राजे का समर्थन कर रहे हैं, तो उन्होंने जवाब दिया कि राजे को सभी विधायकों का समर्थन हासिल है। 

वसुंधरा के पक्ष में उठी आवाजें
वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) से मिलने वाले विधायकों में कालीचरण सराफ, केके विश्नोई, गोविंद रानीपुरिया, विजय सिंह चौधरी, प्रेम चंद बैरवा, कालूलाल मीणा, गोपीचंद मीणा, बहादुर सिंह कोली, शंकर सिंह रावत, मंजू बाघमार, प्रताप सिंह सिंघवी, बाबू सिंह राठौड़, पुष्पेंद्र सिंह और शत्रुघ्न गौतम आदि शामिल हैं। समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, विधायक बहादुर सिंह कोली ने कहा कि राजस्थान के लोग चाहते हैं कि वसुंधरा राजे मुख्यमंत्री बनें। उन्होंने यह भी कहा कि अगली पार्टी बैठक में हम कहेंगे कि वसुंधरा राजे को फिर से सीएम बनना चाहिए। 

दिल्ली में बढ़ी हलचल
वहीं सूत्रों ने बताया कि दिल्ली में भी हलचल देखी गई। भाजपा के प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह और प्रदेश अध्यक्ष सीपी जोशी ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से उनके निवास और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से उनके कार्यालय में मुलाकात की। उनकी मुलाकात आलाकमान से भी हो सकती है। हालांकि पार्टी प्रवक्ता की ओर से जोशी और अरुण सिंह की शाह और नड्डा से मुलाकात को औपचारिक करार दिया गया। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि यह मुलाकात कर राजस्थान में भाजपा को प्रचंड बहुमत मिलने पर राज्य की जनता की ओर से आभार प्रकट करने के लिए थी। 

नए चेहरों को दिया जा सकता है मौका
पीटीआई-भाषा की ही एक अन्य रिपोर्ट में पार्टी के कुछ नेताओं के हवाले से कहा गया है कि राजस्थान को लेकर पार्टी नेताओं के बीच प्रबल राय है कि नए चेहरे को मौका दिया जा सकता है। वैसे मुख्यमंत्री पद की रेस में जिन नामों की चर्चा है उनमें झालरापाटन सीट से जीतने वाली वसुंधरा राजे के अलावा केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन मेघवाल, बाबा बालकनाथ और दीया कुमारी शामिल हैं। सनद रहे केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और अर्जुन मेघवाल ने विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ा था। ऐसे में जब कोई नेता खुलकर कुछ बोल नहीं रहा है, जयपुर में विधायकों के राजे के पक्ष में बयान चर्चा का विषय बन गए हैं। 

(पीटीआई-भाषा और एएनआई के इनपुट पर आधारित)

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें