ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थान2-3 बार कोशिश, नहीं बोल पाए 'डोटासरा'; फिर खरगे ने क्या कहा कि सबने लगाए ठहाके

2-3 बार कोशिश, नहीं बोल पाए 'डोटासरा'; फिर खरगे ने क्या कहा कि सबने लगाए ठहाके

कांग्रेस का घोषणापत्र जारी करते हुए पार्टी के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि उनकी पार्टी जो वादे करती है उनको निभाती भी है। इस दौरान एक मजेदार वाकया भी हुआ जिस पर सभी ठहाके लगाने लगे। 

2-3 बार कोशिश, नहीं बोल पाए 'डोटासरा'; फिर खरगे ने क्या कहा कि सबने लगाए ठहाके
Sudhir Jhaलाइव हिन्दुस्तान,जयपुरTue, 21 Nov 2023 12:12 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में कांग्रेस पार्टी ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया। चार लाख सरकारी नौकरी, किसानों को ब्याजमुक्त 2 लाख रुपए का लोन और जातिगत जनगणना जैसे वादों वाला घोषणापत्र पार्टी के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे की मौजूदगी में जारी किया गया। खरगे ने कहा कि उनकी पार्टी जो वादे करती है उनको निभाती भी है। इस दौरान एक मजेदार वाकया भी हुआ जिस पर सभी ठहाके लगाने लगे। 

दरअसल, खरगे कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के अंतिम उपनाम 'डोटासरा' का उच्चारण नहीं कर पा रहे थे। 2-3 बार प्रयास के बाद भी जब वह सफल नहीं हुए तो उन्होंने मंच से ही गोविंद सिंह से कहा, 'इतना मुश्किल क्यों कर लिया। आप तो गोविंद सिंह हैं वैसे। गोविंद सिंह हैं उसी से पहचाना जाता है कौन है क्या है। फिर ये क्यों?' यह सुनकर सभी ठहाके लगाने लगे। मंच पर मौजूद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी हंसते नजर आए।

एक दिन पहले ही फिसली थी जुबान
एक दिन पहले ही खरगे को उस समय किरकिरी का सामना करना पड़ा जब उनके मुंह से राजीव गांधी की जगह राहुल गांधी का नाम निकल गया। राजस्थान के अनूपगढ़ में एक रैली के दौरान मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा, 'राहुल गांधी जैसे नेताओं ने देश की एकता के लिए जान दे दी।' मंच पर मौजूद लोगों ने उन्हें चूक को लेकर टोका तो उन्होंने सुधार किया और कहा कि वह राजीव गांधी कहना चाहते थे। 

पीएम मोदी को निशाने पर लिया
खरगे ने घोषणापत्र जारी करते हुए पीएम मोदी को निशाने पर रखा। उन्होंने पीएम मोदी के पिता के लिए अपशब्द के इस्तेमाल के आरोपों को खारिज करते हुए पीएम मोदी को 'झूठों का सरदार' कहा। खरगे ने सस्ते सिलेंडर का जिक्र करते हुए कहा, 'प्रधानमंत्री ने कहा था कि जब मेरी मां-बहनें चूल्हे के सामने बैठ कर फूंकनी से फूंकती हैं और धुंआ आंखों में आता है ये मुझसे देखा नहीं जाता इसलिए मैं फ्री गैस सिलेंडर दूंगा। उन्होंने पहला गैस सिलेंडर फ्री में दिया बाद में उसे बढ़ाते-बढ़ाते 1150 का कर दिया। अब चुनाव आए जो 200 रुपए कर दिया। आपने पहले 450 का सिलेंडर 1150 का कर दिया। इतना पैसा निकालने के बाद आप हमें 200 दे रहे हैं। ये हमें बोलते हैं कि हम रेवड़ी बांट रहे हैं, फिर वोट लेने के लिए 5 किलो राशन दे रहे हैं इसे क्या कहें?'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें