ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानउदयपुर में एक अनोखी योजना की शुरुआत, कचरे के बदले चाय; जानें वजह

उदयपुर में एक अनोखी योजना की शुरुआत, कचरे के बदले चाय; जानें वजह

प्लास्टिक का कचरा लाए और नि: शुल्क चाय-कॉफी और नाश्ता करे इस पहल का शुभारंभ क्रिकेटर रवि विश्नोई ने बुधवार को किया।

उदयपुर में एक अनोखी योजना की शुरुआत, कचरे के बदले चाय; जानें वजह
Swati Kumariलाइव हिंदुस्तान,उदयपुरThu, 01 Dec 2022 10:23 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में एक पर्यटन स्थल ऐसा है जहां पर्टकों को कचरे के बदले चाय और कॉफी मुफ्त में पिलाई जाती है। राजसमंद जिले के कुंभलगढ़ इलाके  को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए भग्गासिंह चाय वाले ने इस अनूठी पहल की शुरुआत की है। प्लास्टिक का कचरा लाए और नि: शुल्क चाय-कॉफी और नाश्ता करे इस पहल का शुभारंभ क्रिकेटर रवि विश्नोई ने बुधवार को किया। अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी भुवनेश्वर सिंह चौहान एवं उपखण्ड अधिकारी जयपाल सिंह राठौड़ ने बताया स्थानीय बस स्टैण्ड पर चाय की लॉरी लगाने वाले भग्गा सिंह चाय वाले ने अनूठी पहल करते हुए कुंभलगढ़ क्षेत्र को प्लास्टिक मुक्त बनाने का बीड़ा उठाया है। इसमें भग्गासिंह ने अपनी चाय की दुकान पर लिखवाया है कि प्लास्टिक का कचरा लाएं और नि: शुल्क चाय-कॉफी और नाश्ता  करें। 

इस पहल से प्रभावित होकर यहां भ्रमण पर आए क्रिकेटर रवि विश्नोई भग्गासिंह की चाय की दुकान पर पहुंचकर प्रथम ग्राहक के रूप में कचरा देकर चाय पी और इस अनूठी पहल का शुभारम्भ किया। इस दौरान तहसीलदार रणजीत सिंह, सहायक अभियन्ता कमलेश मीणा, खण्ड समन्वयक नरेश जोशी और समाजसेवी प्रेमसुख आदि ने भी स्वच्छता अभियान के दौरान एकत्र किया प्लास्टिक कचरा देकर चाय-कॉफी का लुत्फ उठाया। उल्लेखनीय है कि भग्गासिंह को राज्य स्तर पर स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण में सहयोग के लिए सम्मानित किया जा चुका है।

... तो चाय नहीं
अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी चौहान ने बताया कि एक दिन उनकी नजर भग्गासिंह के चाय के ठेले पर पड़ी, जिस पर लिखा था, शौचालय का उपयोग करें, वरना चाय नहीं मिलेगी। इस पर भग्गासिंह ने बताया कि वह 2017 से लगातार यह कार्य कर रहा है, जिसके घर में शौचालय नहीं है उसे चाय नहीं पिलाता है। इस पर एसीईओ चौहान ने उसे प्लास्टिक कचरे के बदले लोगों को चाय पिलाने और नाश्ता करवाने का सुझाव दिया। इस पर भग्गासिंह ने अपनी सहमति देते हुए ऐसा करने का बीड़ा उठाया और यह कर भी दिखाया।