DA Image
21 नवंबर, 2020|1:34|IST

अगली स्टोरी

उदयपुर: जाली नोटों के कारोबार का मुख्य आरोपी गिरफ्तार, A4 साइज़ के पेपर पर छापते थे नोट

राजस्थान के उदयपुर में एक बार फिर नकली नोट बनाने वालों का पर्दाफाश हुआ है। दरअसल, 17 नवंबर को अंबामाता थाना क्षेत्र के सज्जनगढ़ गेट के पास स्थित पराठा सेंटर संचालक से 6 लाख रुपये के नकली नोट बरामद हुए थे। हालांकि इसके बाद वह फरार हो गया था। वहीं, अब नकली नोट छापने के मामले में मुख्य सरगना वसीम को पुलिस ने शुक्रवार को मध्यप्रदेश के जावरा से गिरफ्तार कर लिया है।

बता दें, आरोपी ने कोटड़ा स्थित अपने साथी संचालक अमित पुत्र गट्टू लाल के साथ नकली नोट बनाने की बात कबूली है। इस पर अमित की तलाश में पुलिस टीमें मध्यप्रदेश भेजी गई हैं। अब इस मामले को लेकर जांच अधिकारी रामसुमेर ने बताया कि अभियुक्त नकली नोट बनाने में कलर प्रिंटर का उपयोग करते थे। पहले 500 रुपए का नोट लेते और दोनों तरफ से स्कैन कर लेते। फिर एक पेज पर दोनों साइड का कलर प्रिंटर निकालते, इसमें चार नोट छपे होते। नोट का कलर प्रिंटर आने के बाद प्रिंटर के एक साइड की फोटो कॉपी एक पेज पर और दूसरे साइड की फोटो कॉपी को दूसरे पेज पर करते। 

फिर दोनों को गोंद से चिपकाकर 500 का नकली नोट तैयार करते। इस प्रकार 22 पैसे के दो ए-4 साइज के पेपर से 2000 रुपए तैयार कर लेते थे। बता दें, नकली नोट छापने के आरोप में गिरफ्तार वसीम धोखाधड़ी और शराब तस्करी में भी लिप्त रहा है। साथ ही उस पर छेड़छाड़ और मारपीट के मुकदमे भी दर्ज हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Udaipur: The main accused in the business of fake currency arrested used to print notes on A4 size paper