ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानतृतीय श्रेणी शिक्षकों को मिलेगी पदोन्नति, भजनलाल सरकार में होगी पूरी आस

तृतीय श्रेणी शिक्षकों को मिलेगी पदोन्नति, भजनलाल सरकार में होगी पूरी आस

राजस्थान में सत्ता बदलने के बाद तृतीय श्रेणी शिक्षकों को पदोन्नति मिलने की पूरी उम्मीद है। ऐसा माना जा रहा है कि सरकार बीच का रास्ता निकालकर समाधान करके डीपीसी कराएगी। शिक्षकों की आस पूरी हो सकती है।

तृतीय श्रेणी शिक्षकों को मिलेगी पदोन्नति, भजनलाल सरकार में होगी पूरी आस
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरTue, 27 Feb 2024 02:34 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में सत्ता बदलने के बाद तृतीय श्रेणी शिक्षकों को पदोन्नति मिलने की पूरी उम्मीद है। ऐसा माना जा रहा है कि सरकार बीच का रास्ता निकालकर समाधान करके डीपीसी कराएगी। शिक्षकों के अनुसार तृतीय श्रेणी शिक्षकों के तबादले नहीं होने से कई स्कूलों में पद खाली पड़े हैं। दूसरी ओर वर्षों से बाहरी जिलों में बैठे शिक्षक तबादले के इंतजार में ही हैं। प्रदेश की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने तृतीय श्रेणी शिक्षकों की मांग पर 18 अगस्त 2021 से शाला दर्पण पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन आवेदन मांगे थे, जिसमें प्रदेश के 33 जिलों से कुल 80 हजार 781 शिक्षकों ने आवेदन कर तबादला करने की मांग की थी। इसमें उदयपुर से 3778 शिक्षकों ने आवेदन किए थे लेकिन गहलोत सरकार ने आवेदन लेने के करीब दो साल तक सत्ता में रहने के बावजूद तबादले नहीं किए। अब शिक्षकों को नई सरकार से उम्मीद है।

30 हजार शिक्षक कर रहे हैं पदोन्नति का इंतजार

तृतीय श्रेणी शिक्षक विभागीय पदोन्नति का इंतजार कर रहे हैं लेकिन 4 साल बाद भी उनकी ये आस पूरी नहीं हो पाई है। अतिरिक्त विषय में स्नातक डिग्रीधारियों की डीपीसी को लेकर सुप्रीम कोर्ट में चल रहे मामले के कारण करीब 30 हजार शिक्षकों की पदोन्नति अटकी हुई है। पदोन्नति नहीं होने पर तृतीय श्रेणी शिक्षक वरिष्ठ अध्यापक पद पर पदोन्नत नहीं हो पा रहे हैं। सरकार इस मसले का हल नहीं निकाल पा रही है।

जानिए पूरा मामला 

शिक्षा विभाग में पहले डीपीसी में अतिरिक्त विषय में स्नातक उत्तीर्ण को पदोन्नति के लिए पात्र माना जाता रहा है, लेकिन पिछली सरकार ने बिना शिक्षा सेवा नियमों में संशोधन किए एक कमेटी के फैसले का हवाला देते हुए डीपीसी में अतिरिक्त विषय स्नातक उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को अपात्र करार दे दिया। इस कारण पदोन्नति से वंचित हुए करीब 700 शिक्षक हाईकोर्ट चले गए। न्यायालय की एकल पीठ ने डीपीसी पर स्टे दे दिया। इसके बाद सरकार खंडपीठ में गई और खंडपीठ में भी अतिरिक्त विषय स्नातक शिक्षकों की पदोन्नति कर बंद लिफाफे में डीपीसी करने पर सहमति दे दी। इस पर शिक्षक उच्चतम न्यायालय की शरण में चले गए और बंद लिफाफे में डीपीसी करने पर स्थगन ले आए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें