ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानराजस्थान में चाइल्ड केयर लीव पर लगी रोक, शिक्षक संगठनों ने खोला मोर्चा

राजस्थान में चाइल्ड केयर लीव पर लगी रोक, शिक्षक संगठनों ने खोला मोर्चा

राजस्थान में शिक्षामंत्री मदन दिलावर के खिलाफ शिक्षक संगठनों ने मोर्चा खोल दिया है। महिला शिक्षिकाओं और अन्य कार्मिकों के चाइल्ड केयर लीव पर अग्रिम आदेशों तक रोक लगाने से नाराज है।

राजस्थान में चाइल्ड केयर लीव पर लगी रोक, शिक्षक संगठनों ने खोला मोर्चा
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरFri, 01 Mar 2024 07:55 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में शिक्षामंत्री मदन दिलावर के खिलाफ शिक्षक संगठनों ने मोर्चा खोल दिया है। दरअसल, शिक्षक संगठन महिला शिक्षिकाओं और अन्य कार्मिकों के चाइल्ड केयर लीव (सीसीएल) पर अग्रिम आदेशों तक रोक लगाने से नाराज है। परीक्षाओं का सीजन होने के कारण सरकारी स्कूलों में कार्यरत महिला शिक्षिकाओं और अन्य कार्मिकों के चाइल्ड केयर लीव (सीसीएल) पर अग्रिम आदेशों तक रोक लगा दी गई है। हालांकि, शिक्षा निदेशालय की ओर से ऐसा कोई आदेश नहीं हुआ है, लेकिन जिलों में सीबीईईओ ने ऐसे आदेश जारी कर दिए हैं। शिक्षा विभाग की परीक्षाएं अप्रेल तक जारी रहेंगी। शिक्षकों के विरोध पर शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने कहा है कि ऐसे कोई आदेश तो नहीं आए हैं, लेकिन परीक्षाओं के समय विवशता है कि हम छुट्टी नहीं दे सकते।

शिक्षक संगठन बता रहे हैं गलत आदेश

अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त महासंघ एकीकृत के प्रदेश महामंत्री विपिन प्रकाश शर्मा ने कहा है कि कई महिला कार्मिकों ने सीसीएल या पीएल अवकाश ले रखे हैं। उनके अवकाश को निरस्त कर ड्यूटी ज्वाइन करने आदेश गलत है। शिक्षा विभाग राज्य सरकार के आदेशों का उल्लंघन कर रहा है। राजस्थान पंचायती राज एवं माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रवक्ता नारायण सिंह सिसोदिया ने कहा है कि जब से सरकार बनी है, मंत्री व अधिकारी शिक्षकों को प्रताडि़त कर रहे हैं। छुट्टियां रद्द करके उनके अधिकारों का हनन किया जा रहा है।

महिला शिक्षकों के सामने यह समस्या

बताया जा रहा है कि हाल ही शिक्षा विभाग की आयोजित वीसी में शिक्षा सचिव की ओर से निर्देश दिए गए हैं कि अगर कोई शिक्षिका और अन्य महिला कार्मिक ने पूर्व में सीसीएल स्वीकृत करवा रखी है, तो सीसीएल निरस्त कर स्कूल बुलाया जाए। कई महिला कार्मिकों का कहना है कि उनके बच्चों की उम्र अगले सत्र तक 18 वर्ष पार हो जाएगी। ऐसे में उन्हें सीसीएल का लाभ नहीं मिल पाएगा। जबकि शिक्षा मंत्री मदन दिलावर ने कहा है कि बच्चों को पढ़ाने के लिए 120 दिन ही मिलते हैं। कई कारणों से कक्षाएं नहीं लग पातीं। हमने सीसीएल लीव स्थगित नहीं की है, ऐसे आदेश भी नहीं आए हैं, लेकिन ऐसे समय पर अवकाश मांगे जाते हैं जब परीक्षाएं चलती हैं, तो देखना पड़ता है। हमें परीक्षा से पहले अतिरिक्त कक्षाएं भी लगानी होनी हैं। हमें अधिक शिक्षक चाहिए।

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें