ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थान...इसलिए किरोड़ी लाल मीणा को नहीं बनाया गृहमंत्री, इनसाइड स्टोरी

...इसलिए किरोड़ी लाल मीणा को नहीं बनाया गृहमंत्री, इनसाइड स्टोरी

राजस्थान में सीएम भजनलाल शर्मा ने विभागों का बंटवारा कर दिया है। सीएम के पास वित्त विभाग को छोड़कर वो सभी विभाग है जो अशोक गहलोत के पास हुआ करते थे। सीएम ने गृह विभाग अपने पास रखा है।

...इसलिए किरोड़ी लाल मीणा को नहीं बनाया गृहमंत्री, इनसाइड स्टोरी
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरFri, 05 Jan 2024 05:36 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में सीएम भजनलाल शर्मा ने विभागों का बंटवारा कर दिया है। सीएम के पास वित्त विभाग को छोड़कर वो सभी विभाग है जो अशोक गहलोत के पास हुआ करते थे। सबसे बड़ा सवाल यह है कि सीएम ने गृहमंत्री का जिम्मा अपने पास क्यों रखा है। जबकि बीजेपी अशोक गहलोत कानून व्यवस्था को लेकर हमलावर रही है। अब कांग्रेस हमलावर हो सकती है। किरोड़ी लाल मीणा को गृह विभाग देने की पूरी संभावना थी। लेकिन नहीं मिला है। माना जा रहा है कि किरोड़ी लाल पर केस दर्ज है। जन आंदोलन और धरना- प्रदर्शन से जुड़े केस दर्ज है। इसलिए किरोड़ी लाल को गृह विभाग का जिम्मा नहीं दिया है। दूसरी वजह यह बताई जा रही है कि सीएम के पास गृह विभाग होना जरूरी है। क्योंकि वह राज्य का मुखिया है। एमपी में सीएम मोहन यादव ने गृह विभाग अपने पास ही रखा है।

सीएम भजनलाल शर्मा के पास गृह विभाग

सीएम भजनलाल शर्मा के पास गृह विभाग, कार्मिक विभाग, आबकारी विभाग, आयोजना विभाग, सामान्य प्रशासन, नीति निर्धाक प्रकोष्ठ, सूचना एवं जनसंपर्क विभाग और एसीबी। दीया कुमारी- वित्त, पर्यटन विभाग,  कला एवं साहित्य एवं संस्कृति और पुरात्व विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग और बाल अधिकारिता विभाग।प्रेमचंद बैरवा- तकनीकी शिक्षा विभाग, उच्च शिक्षा विभाग, आय़ुर्देव, योग एवं प्राकृतिक शिक्षा, यूनानी सिद्धा एवं होम्योपैथिक आयुष विभाग, परिवहन एवं सड़क सुरक्षा विभाग, किरोड़ी लाल मीणा- कृषि एवं उद्यानिकी विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, आपदा प्रबंधन एंव नागरिक सुरक्षा विभाग और जन अभियोग निराकरण विभाग, जबकि गजेंद्र सिंह को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग दिया गया है। 

मदन दिलावर शिक्षामंत्री

मदन दिलावर- विद्यालय शिक्षा विभाग, पंचायती राज विभाग, संस्कृत राज्य विभाग। 
कन्हैयालालल चौधरी-पीएचईडी विभाग, भूजल विभाग, जोगाराम पटेल- संसदीय कार्य विभाग विधि एवं विधिक कार्य विभाग और विधि परामर्शी कार्यालय। न्याय विभाग।सुरेश सिंह रावत-जल संसाधन विभाग, जल संसाधन आयोजना विभाग।अविनाश गहलोत- सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग।सुमित गोदारा- खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग, उपभोक्ता मामले विभाग। जोराराम राम कुमावत- पशुपालन एवं डेयरी विभाग। गोपालन विभाग, देवस्थान विभाग। बाबूलाल खराड़ी- जनजातीय क्षेत्रीय विकास विभाग, गृह रक्षा विभाग।हेमंत मीणा- सहकारिता विभाग औऱ नागरिक उड्यन विभाग।

राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार

सुरेंद्र पाल सिंह टीटी- कृषि विपणन विभाग, कृषि सिंचित विकास विभाग एवं जल उपयोगिता विभाग। इंदिरा गांधी नहर विभाग, अल्पसंख्यक मामलात एवं वक्फ विभाग।
संजय शर्मा- वन विभाग, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन। विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी विभाग। गौतम कुमार- सहकारिताल विभाग एवं नागरिक उड्यन विभाग। झाबर सिंह खर्रा- नगरीय विकास विभाग एवं स्वायत्त शासन विभाग। हीरालाल नागर- उर्जा विभाग।

राज्यमंत्री

ओटाराम देवासी- पंचायती राज विभाग। ग्रामीण विकास विभाग। आपदा प्रबंधन एवं सहायता एवं नागरिक सुरक्षा विभाग।  मंजू बाघमार-सार्वजनिक निर्माण विभाग। महिला एवं बाल विकास विभाग। बाल अधिकारिता। विजय सिंह- राजस्व विभाग। उपनिवेशन विभाग और सैनिक कल्याण विभाग। केके विश्नोई-  उद्योग एवं वाणिज्य विभाग। युवा मामले और खेल विभाग। कौशल नियोजन एवं उद्यमिता औऱ नीति निर्धारण विभाग। जवाहर सिंह बेढम- गृह विभाग, गोपालन विभाग, पशुपालन एवं डेयरी विभाग और मत्स्य विभाग। इन सभी के अतिरिक्त अन्य अवितरित विभागों का कार्य मुख्यमंत्री खुद देंखेगे।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें