ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानअशोक गहलोत ने TDP-JDU को याद दिलाए 'षड़यंत्र', बोले- हॉर्स ट्रेडिंग के लिए तैयार रहे

अशोक गहलोत ने TDP-JDU को याद दिलाए 'षड़यंत्र', बोले- हॉर्स ट्रेडिंग के लिए तैयार रहे

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा-लोकसभा स्पीकर पद के चुनाव की ओर केवल TDP एवं JDU ही नहीं बल्कि पूरे देश की जनता उत्सुकता से देख रही है। सहयोगी दलों को स्पीकर का पद देना चाहिए।

अशोक गहलोत ने TDP-JDU को याद दिलाए 'षड़यंत्र', बोले-  हॉर्स ट्रेडिंग के लिए तैयार रहे
ashok gehlot
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरWed, 12 Jun 2024 06:56 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा-लोकसभा स्पीकर पद के चुनाव की ओर केवल TDP एवं JDU ही नहीं बल्कि पूरे देश की जनता उत्सुकता से देख रही है। यदि भाजपा के मन में आगे जाकर कोई भी अलोकतांत्रिक कृत्य करने का इरादा नहीं है तो उन्हें स्पीकर का पद किसी सहयोगी दल को ही देना चाहिए। गठबंधन धर्म को निभाते हुए 1998 से 2004 तक श्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में TDP व शिवसेना के स्पीकर एवं UPA सरकार में 2004 से 2009 तक CPI(M) के स्पीकर रहे और अच्छे से लोकसभा का प्रबंधन हुआ। 

TDP और JDU को महाराष्ट्र, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, गोवा, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश एवं राजस्थान में भाजपा द्वारा किए गए सरकार गिराने के षड़यंत्रों को नहीं भूलना चाहिए। इनमें से कई राज्यों में तो स्पीकर की भूमिका के कारण ही सरकार गिरी और पार्टियां टूटीं। 2019 में TDP के 6 में से 4 राज्यसभा सांसदों भाजपा में शामिल हो गए थे और तब TDP कुछ भी नहीं कर सकी थी। अब अगर भाजपा लोकसभा स्पीकर का पद अपने पास रखती है तो TDP और JDU को अपने सांसदों की हॉर्स ट्रेडिंग होते देखने के लिए तैयार रहना चाहिए।ॉ

भाजपा को याद दिलाया गठबंधन धर्म

भाजपा को गठबंधन धर्म की याद दिलाते हुए इसी पोस्ट में अशोक गहलोत ने लिखा, 'गठबंधन धर्म को निभाते हुए 1998 से 2004 तक अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में तेलुगु देशम पार्टी व शिवसेना के स्पीकर और यूपीए सरकार में 2004 से 2009 तक सीपीआई (एम) के स्पीकर रहे और अच्छे से लोकसभा का प्रबंधन हुआ।