ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानहिस्सेदारी दी होती तो... राजस्थान चुनाव में क्यों हारी कांग्रेस, कहां चूक? पायलट ने खोला राज

हिस्सेदारी दी होती तो... राजस्थान चुनाव में क्यों हारी कांग्रेस, कहां चूक? पायलट ने खोला राज

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने मंगलवार को कहा कि उनके और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच मतभेद दूर हो गए हैं। राजस्थान विधानसभा चुनाव पर इन मतभेदों ने कोई प्रतिकूल असर नहीं डाला था।

हिस्सेदारी दी होती तो... राजस्थान चुनाव में क्यों हारी कांग्रेस, कहां चूक? पायलट ने खोला राज
Krishna Singhपीटीआई,नई दिल्लीWed, 07 Feb 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

कांग्रेस नेता सचिन पायलट (Congress leader Sachin Pilot) ने मंगलवार को कहा कि यदि कांग्रेस ने कुछ और प्रयास किए होते तो वह राजस्थान विधानसभा चुनाव जीत सकती थी। उन्होंने यह भी कहा कि उनके और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच मतभेद दूर हो गए हैं। इन मतभेदों ने चुनाव परिणामों को प्रभावित नहीं किया है। राष्ट्रीय राजधानी में आयोजित लोकमत नेशनल कॉन्क्लेव में बोलते हुए पायलट ने कहा कि कांग्रेस ने राजस्थान में अच्छी लड़ाई दी लेकिन अफसोस है कि हम जीत नहीं सके।

कहां हुई चूक?
पायलट ने कहा- मुझे लगा कि राजस्थान में हमारे पास बहुत अच्छा मौका है। हमने बहुत प्रयास किया लेकिन अगर हमने कुछ और प्रयास किए होते जैसे टिकट बदल दिए होते तो... 25 मौजूदा मंत्रियों में से 17-18 चुनाव हार गए। यदि हमने अलग-अलग उम्मीदवार चुने होते तो शायद प्रदर्शन बेहतर होता। मैंने और पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने उन मुद्दों पर चर्चा की है। यह पूछे जाने पर कि क्या अगले चुनाव के लिए गहलोत को चेहरे के तौर पर बदलने की जरूरत है, सचिन पायलट ने कहा- अगला चुनाव पांच साल दूर है।

हिस्सेदारी दी होती तो...
सचिन पायलट ने यह भी कहा कि पार्टी शायद अपने कार्यकर्ताओं का ख्याल रखने में विफल रही। यदि हमने विपक्ष में रहते हुए किसी मुद्दे पर कोई रुख अपनाया है, तो क्या जीतने के बाद मैं इसे बदल सकता हूं? हमारे पार्टी कार्यकर्ताओं ने पांच साल तक कड़ी मेहनत की, जिससे पार्टी को जीत मिली... अगर हमने उन्हें अधिक सम्मान दिया होता, हिस्सेदारी दी होती... यह एक कार्यकर्ता की ही ऊर्जा है जो पार्टी को जीत दिलाती है।

हर कोई खुश है कि राम मंदिर बन गया
कांग्रेस नेताओं के राम मंदिर अभिषेक में शामिल नहीं होने के बारे में पूछे जाने पर सचिन पायलट ने कहा कि धर्म और धर्म का पालन करना व्यक्तिगत पसंद का मामला है। इससे राजनीतिक लाभ लेना गलत है... सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राम मंदिर का निर्माण हुआ। हर कोई खुश है कि राम मंदिर बन गया... लेकिन लोगों को कौन आमंत्रित करेगा, कितने लोगों को आमंत्रित किया जाएगा, यह कौन तय करता है? क्या हम राम भक्त नहीं हैं? राम मंदिर को लेकर कांग्रेस में कोई 'क्लेश' नहीं है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें