ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानमुझे भूल कैसे गए; कांग्रेस से नाराज हुए हनुमान बेनीवाल, NDA में जाने पर क्या जवाब

मुझे भूल कैसे गए; कांग्रेस से नाराज हुए हनुमान बेनीवाल, NDA में जाने पर क्या जवाब

राजस्थान के नागौर लोस सीट से जीतने वाले हनुमान बेनीवाल ने कांग्रेस पर अनदेखी करने का आरोप लगाया है। कांग्रेस ने उन्हें इंडिया गठबंधन की बैठक में नहीं बुलाया, जबकि उनकी पार्टी गठबंधन का हिस्सा है।

मुझे भूल कैसे गए; कांग्रेस से नाराज हुए हनुमान बेनीवाल, NDA में जाने पर क्या जवाब
Subodh Mishraलाइव हिन्दुस्तान,जयपुरFri, 07 Jun 2024 06:34 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान की नागौर लोकसभा सीट से चुनाव जीतने वाले राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (आरएलपी) के उम्मीदवार हनुमान बेनीवाल ने आरोप लगाया है कि कांग्रेस ने उन्हें दिल्ली में होने वाली इंडिया गठबंधन की बैठक में नहीं बुलाया। बेनीवाल की पार्टी इंडिया गठबंधन के तहत लोकसभा चुनाव लड़ी थी। उन्होंने कांग्रेस पर उनकी अनदेखी करने का आरोप लगाया है।

बेनीवाल ने राजस्थान की नागौर लोकसभा सीट से बीजेपी उम्मीदवार ज्योति मिर्धा को हराया है, जो कांग्रेस से सांसद रह चुके हैं। बता दें कि राज्य की कुल 25 सीटों में से बीजेपी 14, कांग्रेस 8 और इंडिया गठबंधन के सहयोगी सीपीआई (एम), आरएलपी और बीएपी ने एक-एक सीट पर जीत दर्ज की है।

इंडिया गठबंधन की बैठक में नहीं बुलाने पर अपनी नाराजगी जताते हुए बेनीवाल ने कहा कि दिल्ली में 1 और 5 जून को दो बार इंडिया गठबंधन की बैठक हुई, लेकिन उन्हें नहीं बुलाया गया। उन्होंने कहा कि जब दक्षिण के छोटे पार्टियों को बैठक में बुलाया गया तो उन्हें क्यों नहीं बुलाया गया। बताया कि कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने गुरुवार को उन्हें फोन कर बताया कि गलती से ऐसा हो गया।

बेनीवाल ने कहा कि अगर यह गलती से हुआ तो यह भयंकर भूल है। देश को सभी सांसदों की जरूरत है और बेनीवाल जैसे आदमी को भूल जाया जाता है। कहा कि इंडिया गठबंधन राज्य में 11 सीट जीतने का जश्न मना रही है। क्या इसमें मेरी कोई भूमिका नहीं है। आरएलपी को कांग्रेस के तीन लाख वोट मिले, जबकि कांग्रेस को आरएलपी के 20 लाख वोट मिले, जिसने उसे इतनी सीटें जीतने में मदद की।

बेनीवाल ने कांग्रेस पर यह भी आरोप लगाया कि उसने आरएलपी के नेता उम्मेदराम बेनीवाल को अपनी पार्टी में मिलाकर उन्हें बाड़मेर से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ाया। बेनीवाल ने कहा कि एक तरफ तो कांग्रेस उनसे गठबंधन बनाती है और दूसरी तरफ उनकी पार्टी को तोड़ देती है। आरएलपी छोड़कर कांग्रेस में जाने वाले उम्मेदराम बेनीवाल ने बाड़मेर सीट से भाजपा उम्मीदवार कैलाश चौधरी को हराया है।

जब उनसे पूछा गया कि कांग्रेस अगर उन्हें आगे भी नजरअंदाज करती रहेगी तो क्या वे भाजपा नीत एनडीए गठबंधन में शामिल होंगे। इस पर बेनीवाल ने कहा कि वह इंडिया गठबंधन में ही रहेंगे, एनडीए में नहीं जाएंगे। साथ ही कहा कि वह अग्निवीर योजना के खिलाफ राज्य में अभियान चलाएंगे। बेनीवाल ने 2019 का लोकसभा चुनाव एनडीए के साथ गठबंधन कर जीता था, लेकिन 2020 में कृषि कानूनों के विरोध में एनडीए छोड़ दिया था।

उधर, इंडिया गठबंधन पर  बेनीवाल के बयान को लेकर राज्य के पूर्व उपमुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने कहा कि इंडिया गठबंधन के भविष्य को लेकर वह आश्वस्त हैं। उन्होंने कहा कि इंडिया गठबंधन एकजुट है और आने वाले दिनों में और पार्टियां भी इससे जुड़ेंगी।