ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानरेजिडेंट डॉक्टर का उन्हीं के कमरे में मिला शव, सुसाइड की फैली अफवाह; पुलिस ने बताया सच

रेजिडेंट डॉक्टर का उन्हीं के कमरे में मिला शव, सुसाइड की फैली अफवाह; पुलिस ने बताया सच

साथी चिकित्सकों ने बताया कि ड्यूटी खत्म होने के बाद वह अपने रूम पर गए और गेट लगाकर सो गए। देर शाम तक भी जब डॉक्टर बाहर नहीं निकले तो चिकित्सकों को शक हुआ तो उन्होंने गुलशन के कमरे का गेट खटखटाया था।

रेजिडेंट डॉक्टर का उन्हीं के कमरे में मिला शव, सुसाइड की फैली अफवाह; पुलिस ने बताया सच
Deepakवार्ता,कोटाSun, 29 May 2022 09:48 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/

राजस्थान में कोटा के एक रेजिडेंट डॉक्टर की कार्डियक अरेस्ट से मौत हो गई। पुलिस सूत्रों ने बताया कि कोटा के नयापुरा थाना क्षेत्र में स्थित महाराव भीमसिंह अस्पताल के पीजी हॉस्टल में रहने वाले एक रेजिडेंट डॉक्टर गुलशन मीणा की मौत हुई है।

मेडिकल कॉलेज में कार्यरत रेजिडेंट डॉक्टर की कार्डियक अरेस्ट से मौत हो गई। डॉक्टर गुलशन मीणा का शव उन्हीं के कमरे में मिला था। वही पुलिस ने डॉक्टर के साथ किसी भी अनहोनी घटना से इंकार किया है। मृतक डॉक्टर गुलशन मीना झालावाड़ के निवासी थे जो कोटा मेडिकल कॉलेज से मेडिसिन में पीजी कर रहे थे। प्राचार्य डॉ. विजय सरदाना ने बताया कि डॉक्टर गुलशन ने 2 महीने पहले ही प्रवेश लिया था उन्हें पहले से ही हार्ट की समस्या थी जोकि कार्डियोलॉजिस्त से उपचार भी ले रहे थे।

नहीं निकले थे कमरे से बाहर
शहर के रामपुरा इलाके में भाटापाड़ा स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में तैनात गुलशन मीण अपने हॉस्टल के कमरे से बाहर नहीं निकले। इसके बाद साथी छात्रों ने उनके कमरे का दरवाजा खटखटाया। इसके बावजूद उनका दरवाजा नहीं खुला। इसके बाद सूचना देने पर पुलिस मौके पर पहुंची और जैसे-तैसे कमरे का दरवाजा खोलकर भीतर प्रवेश किया। 

कमरे का गेट तोड़कर निकाला बाहर

साथी चिकित्सकों ने बताया कि ड्यूटी खत्म होने के बाद वह अपने रूम पर गए और गेट लगाकर सो गए। देर शाम तक भी जब डॉक्टर बाहर नहीं निकले तो चिकित्सकों को शक हुआ तो उन्होंने गुलशन के कमरे का गेट खटखटाया लेकिन अंदर से कोई आवाज नहीं आई जिसके बाद साथी चिकित्सकों ने गेट की कुंडी को तोड़ा तो डॉक्टर गुलशन बेड पर अचेत अवस्था में पड़े थे।

जिनको तत्काल ही अस्पताल ले जाया गया। जहां पर चिकित्सकों ने भी उन्हें मृत घोषित कर दिया। साथी चिकित्सकों का कहना है कि उनकी पत्नी भी आयुर्वेद की डॉक्टर है, जो कि झालावाड़ में कार्यरत है।

epaper