ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानलोकसभा चुनाव के बाद भजनलाल कैबिनेट में होगा फेरबदल, किसे मिलेगा मौका? समझें समीकरण

लोकसभा चुनाव के बाद भजनलाल कैबिनेट में होगा फेरबदल, किसे मिलेगा मौका? समझें समीकरण

लोकसभा चुनावों के बाद राजस्थान की भजनलाल कैबिनेट में फेरबदल की संभावना जताई जा रही है। इस दौरान कुछ मंत्रियों का पत्ता कट सकता है और कुछ निर्दलीय और दूसरी पार्टियों से आए विधायकों को मौका मिलेगा।

लोकसभा चुनाव के बाद भजनलाल कैबिनेट में होगा फेरबदल, किसे मिलेगा मौका? समझें समीकरण
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,जयपुरSat, 04 May 2024 06:28 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनावों के दो चरणों का मतदान हो चुका है। राजस्थान में दो चरणों के मतदान में काफी कम वोटिंग हुई है। अब ऐसी खबर आ रही है कि लोकसभा चुनावों के तुरंत बाद यानी कि 4 जून के बाद भारतीय जनता पार्टी (BJP) राजस्थान की भजनलाल कैबिनेट में बदलाव कर सकती है। इस दौरान आशंका जताई जा रही है कि कुछ मंत्रियों का पत्ता भी कट सकता है और कुछ नए चेहरों को भी मौका मिल सकता है। इस दौरान मंत्रियों की सीटों पर लोकसभा चुनावों का परिणाम भी बहुत कुछ तय करेगा। आइये जानते हैं कि भजनलाल कैबिनेट में किसे मौका मिल सकता है।

राजस्थान की कैबिनेट में फिलहाल मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा और दो डिप्टी सीएम समेत कुल 26 मंत्री हैं। कैबिनेट में चार मंत्रियों के लिए अभी जगह बाकी है। ऐसा माना जा रहा था कि लोकसभा चुनाव से पहले ही राजस्थान कैबिनेट में बदलाव कर नए चेहरों को शामिल किया जा सकता है। हालांकि, हुआ नहीं। अब बताया जा रहा है कि लोकसभा चुनावों के परिणामों के आधार पर कैबिनेट में फेरबदल किया जाएगा। पार्टी ने मंत्रियों की लोकसभा सीटों पर उनके प्रत्याशियों के प्रदर्शन के आधार पर तय करेगी कि किसे मंत्रिमंडल में प्रमोशन दिया जाए और किसे पदावनति। लोकसभा चुनावों के दो चरणों के मतदान में कमी को देखते हुए ऐसा माना जा रहा है कि जिन मंत्रियों के लोकसभा क्षेत्रों में वोट प्रतिशत कम रह रहा है उनके लिए ये खतरे की घंटी साबित हो सकती है।

किसे मिलेगा मौका
ऐसा माना जा रहा है कि मंत्रियों की लोकसभा सीटों पर प्रदर्शन को कैबिनेट फेरबदल में प्राथमिकता दी जाएगी। लेकिन यह भी कहा जा रहा है कि जाट, गुर्जर और मीणा भजनलाल कैबिनेट में मिले कम प्रतिनिधित्व से नाराज चल रहे हैं। ऐसे में भाजपा इन वर्गों को साधने के लिए इनका प्रतिनिधित्व बढ़ा सकती है। इसके साथ ही 2023 के विधानसभा चुनावों के नतीजों के बाद कुछ निर्दलीय और कांग्रेसी विधायक भाजपा में शामिल हो गए थे। ऐसे में माना जा रहा है कि इन्हें मौका दिया जा सकता है।