ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानराजस्थान में पांचवें दिन खत्म हुआ आरक्षण आंदोलन: कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने दिलाया भरोसा, खुला नेशनल हाइवे

राजस्थान में पांचवें दिन खत्म हुआ आरक्षण आंदोलन: कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने दिलाया भरोसा, खुला नेशनल हाइवे

भरतपुर में कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह के आश्वासन के बाद 12% आरक्षण की मांग के लिए बीते चार दिन से सैनी, माली, कुशवाहा, मौर्य शाक्य जातियों द्वारा किया जा रहा आंदोलन गुरुवार को खत्म हो गया।

राजस्थान में पांचवें दिन खत्म हुआ आरक्षण आंदोलन: कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने दिलाया भरोसा, खुला नेशनल हाइवे
Vishva Gauravलाइव हिंदुस्तान,भरतपुर।Thu, 16 Jun 2022 12:13 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के भरतपुर में 12% आरक्षण की मांग के लिए बीते चार दिन से सैनी, माली, कुशवाहा, मौर्य शाक्य जातियों द्वारा किया जा रहा आंदोलन गुरुवार को खत्म हो गया। कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह द्वारा की गई समझाइश के बाद आंदोलनकारी सहमत हो गए और आंदोलन को खत्म कर दिया। 

आंदोलनकारियों से यह बोले मंत्री
राजस्थान सरकार की तरफ से आंदोलनकारियों से बातचीत करने आए कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने कहा कि आरक्षण की मांग को लेकर सैनी, माली, कुशवाहा, शाक्य, मौर्य जातियों के लोग चार दिन से आंदोलन कर रही थे। आंदोलनकारियों ने जयपुर-आगरा नेशनल हाईवे को जाम कर रखा था, जिससे लोगों को परेशानी हो रही थी। सिंह ने कहा, 'मैंने आंदोलनकारियों को कहा है कि आपकी जो मांगें हैं, उनको मैं मुख्यमंत्री के सामने पेश करूंगा। मैं झूठा आश्वासन नहीं दूंगा, मैं सिर्फ मैसेंजर का काम करूंगा। इसके बाद आंदोलनकारियों ने आंदोलन को खत्म किया है जो सराहनीय है।'

यह बोले आंदोलनकारी नेता
भरतपुर सैनी समाज के अध्यक्ष रामेश्वर सैनी ने कहा कि हमारी तीन मागें हैं। पहली यह कि हमारी इन जातियों को राज्य में 12% आरक्षण दिया जाए। दूसरी आंदोलनकारियों पर लगे मुकदमे वापस लिए जाएं और तीसरी यह कि हमारी इन जातियों के लिए राज्य सरकार द्वारा अलग से जन कल्याणकारी योजना शुरू की जाए। उन्होंने कहा कि कैबिनेट मंत्री विश्वेन्द्र सिंह के आश्वासन के बाद हमने आंदोलन खत्म कर दिया है। 

पांचवें दिन खत्म किया आंदोलन
आंदोलनकारियों ने 12% आरक्षण की मांग के लिए बीते चार दिन से जयपुर-आगरा नेशनल हाईवे को जाम कर रखा था। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल भी 5 दिन से मौके पर तैनात रहा।

epaper