ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानक्रिकेट से अशोक गहलोत के बेटे को आउट करने की तैयारी! राजेंद्र राठौड़ के बेटे पराक्रम की एंट्री 

क्रिकेट से अशोक गहलोत के बेटे को आउट करने की तैयारी! राजेंद्र राठौड़ के बेटे पराक्रम की एंट्री 

राजस्थान में सत्ता बदलने के बाद आरसीए चुनाव में पूर्व सीएम अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत को झटका लग सकता है। राजेंद्र राठौड़ के बेटे पराक्रम राठौड़ ने चुनाव लड़ने की बात कहकर माहौल गर्मा दिया है।

क्रिकेट से अशोक गहलोत के बेटे को आउट करने की तैयारी! राजेंद्र राठौड़ के बेटे पराक्रम की एंट्री 
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरWed, 21 Feb 2024 08:29 PM
ऐप पर पढ़ें

RCA Election: राजस्थान में सत्ता बदलने के बाद आरसीए चुनाव में पूर्व सीएम अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत को झटका लग सकता है। दरअसल भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ के बेटे पराक्रम राठौर की एंट्री क्रिकेट संघ में हो गई है। चूरू जिला क्रिकेट संघ के चुनाव में पराक्रम राठौर ने बाजी मारते हुए जीत हासिल की है। पराक्रम राठौर की क्रिकेट संघ में एंट्री के बाद राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन की कार्यकारिणी में दबदबे के लिए जोर आजमाइश शुरू होने की बात कही जा रही है। माना जा रहा है कि पराक्रम चुनाव लड़ सकते है। हालांकि, अभी चुनाव के लिए लंबा समय है। लेकिन पराक्रम ने संकेत दिए है कि वह आरसीए अध्यक्ष का चुनाव लड़ेंगे। 

राजस्थान में बीजेपी सरकार के गठन के बाद बदल गए हालात

दरअसल राजस्थान में बीजेपी सरकार के गठन के बाद राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन में जिला संघ सक्रिय हो गया है। राजेंद्र राठौड़ के बेटे पराक्रम सिंह ने चूरू जिला क्रिकेट संघ का अध्यक्ष बनने के बाद राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष वैभव गहलोत पर निशाना साधा हैं। पराक्रम राठौर ने एक बयान में कहा कि राजस्थान में क्रिकेट जिस मुकाम पर होना चाहिए था, वहां नहीं पहुंच पाया हैष लंबे समय से पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष पद पर काबिज हैं, लेकिन बावजूद इसके राजस्थान के क्रिकेट में उदासीनता का माहौल है। खिलाड़ियों और खेल प्रेमियों के मन मुताबिक रिजल्ट नहीं मिल रहा है। 

मौका मिला तो जरूर चुनाव लडूंगाः राजेंद्र राठौड़

भविष्य में राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने के सवाल पर पराक्रम ने कहा- राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के चुनाव को लेकर सब कुछ भविष्य के गर्भ में छिपा है. उन्होंने कहा कि जिला संघों की आम सहमति के बाद अगर मुझे चुनाव लड़ने का मौका मिला तो जरूर से चुनाव लडूंगा, लेकिन किस पद पर चुनाव लडूंगा यह अभी कहना थोड़ी प्री-मेच्योर बात होगी। जब भी चुनाव की घोषणा होगी तब इस पर सर्वसम्मति से फैसला किया जाएगा। पराक्रम राठौर के इस बयान के बाद राजनीतिक गलियारों में यह चर्चा तेज हो गई है कि आने वाले समय में आरसीए अध्यक्ष के लिए पूर्व मुख्यमंत्री के पुत्र बनाम पूर्व नेता प्रतिपक्ष के पुत्र के बीच मुकाबला हो सकता है।  पराक्रम सिंह ने कहा कि चूरू क्रिकेट एसोसिएशन का अध्यक्ष बनने के बाद मेरी पहली प्राथमिकता वहां के खिलाड़ियों को हर सुविधा उपलब्ध कराना है। इसके लिए सबसे पहले मैं वहां क्रिकेट ग्राउंड की व्यवस्था करूंगा, क्योंकि अब तक चूरू में क्रिकेट ग्राउंड नहीं है। इसकी वजह से वहां के खिलाड़ियों को झुंझनं खेलने जाना पड़ता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें