ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानराजस्थान मंत्री पुत्र रेप केस मामला: रोहित जोशी को मिली अग्रिम जमानत, तीस हजारी कोर्ट ने मंजूर की जमानत, जानें मामला 

राजस्थान मंत्री पुत्र रेप केस मामला: रोहित जोशी को मिली अग्रिम जमानत, तीस हजारी कोर्ट ने मंजूर की जमानत, जानें मामला 

राजस्थान के जलदाय मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित जोशी को दुष्कर्म के मामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट से अग्रिम जमानत मिल गई है। रोहित जोशी पर शादी का झांसा देकर दुष्कर्म करने का आरोप है।

राजस्थान मंत्री पुत्र रेप केस मामला: रोहित जोशी को मिली अग्रिम जमानत, तीस हजारी कोर्ट ने मंजूर की जमानत, जानें मामला 
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरThu, 09 Jun 2022 07:30 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के जलदाय मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित जोशी को दुष्कर्म के मामले में दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट से अग्रिम जमानत मिल गई है। शादी का झांसा देकर दुष्कर्म के मामले में दिल्ली पुलिस रोहित जोशी की गिरफ्तारी के लिए जयपुर आई थी, लेकिन रोहित जोशी घर से फरार हो गए थे। इसके बाद दिल्ली पुलिस रोहित जोशी की गिरफ्तारी के लिए लगातार दबिश दे रही थी। इस बीच पीड़िता ने खुद की जान को खतरा बताते हुए सुरक्षा देने की मांग की थी। राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश पर राज्य सरकार ने पीड़िता को सुरक्षा मुहैया कराई थी। 

पीड़िता ने दिल्ली में दर्ज कराई थी शिकायत

पीड़िता ने दिल्ली में शिकायत दर्ज कराई थी। पीड़िता के मुताबिक रोहित जोशी शादी का झांसा देकर जनवरी 2021 से लेकर अप्रैल 2022 तक उसका शोषण करता रहा। पीड़िता जब रोहित की हरकतों का विरोध करती तो उसके साथ काफी मारपीट की जाती थी। पीड़िता ने रोहित पर सवाई माधोपुर, हिमाचल प्रदेश, दिल्ली और जयपुर में अलग-अलग स्थानों पर देहशोषण करने के आरोप लगाए हैं। इसके साथ ही पीड़िता ने रोहित पर उसके पिता महेश जोशी की धौंस दिखाकर पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी देने और ब्लैकमेल करने के भी आरोप लगाए हैं।

महेश जोशी बोले- पुलिस को काम करने देना चाहिए

जलदाय मंत्री महेश जोशी ने कहा कि मैं अपने पूरे जीवन सत्य और न्याय पर रहा हूं। पुलिस निष्पक्षता, गहराई और सख्ती के साथ इस मामले की जांच करें। मुझे इस मामले का मीडिया से ही पता लगा है और मैं हमेशा न्याय और सच्चाई के साथ रहूंगा। उन्होंने कहा कि मीडिया ने अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए एफआईआर के बारे में जनता तक बात पहुंचा दी, लेकिन अब इस मामले में कयास और मीडिया ट्रायल को छोड़ पुलिस को अपना काम करने देना चाहिए।

epaper