ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानजज साहब 5 साल तक करते रहे मेरा रेप, 'हनीट्रैप' की आरोपी क्लर्क का बड़ा दावा

जज साहब 5 साल तक करते रहे मेरा रेप, 'हनीट्रैप' की आरोपी क्लर्क का बड़ा दावा

राजस्थान के दौसा में एक 30 वर्षीय महिला क्लर्क ने रविवार को अजमेर सिविल कोर्ट के एक जज पर पांच साल से अधिक समय तक उसके साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया है। वहीं जज ने इसे हनीट्रैप का मामला बताया है।

जज साहब 5 साल तक करते रहे मेरा रेप, 'हनीट्रैप' की आरोपी क्लर्क का बड़ा दावा
Praveen Sharmaजयपुर। एचटी संवाददाताMon, 24 Jun 2024 08:45 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के दौसा में एक 30 वर्षीय महिला ने रविवार को अजमेर सिविल कोर्ट के एक जज पर पांच साल से अधिक समय तक उसके साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया है। वहीं, कुछ दिन पहले ही आरोपी जज ने शिकायतकर्ता महिला के खिलाफ हनीट्रैप और ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया था। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है। महिला और जज 5 साल से एक दूसरे को जानते हैं। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि दौसा के महिला थाने में एक महिला द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत में उसने जज पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है।

दौसा के एक पुलिस अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि महिला का आरोप है कि जज विजेंद्र मीणा (33) ने शादी का झांसा देकर 2019 से उसके साथ शारीरिक संबंध बनाए, लेकिन अब उसने शादी करने से इनकार कर दिया और अजमेर में उसके खिलाफ झूठी एफआईआर भी दर्ज करा दी।

पुलिस के अनुसार, श्रीगंगानगर जिले के रायसिंहनगर में लोअर डिवीजन क्लर्क (एलडीसी) के पद पर कार्यरत महिला की आरोपी जज विजेंद्र से 5 साल पहले दौसा में मुलाकात हुई थी। जहां वे दोनों 2019 में दौसा में राजस्थान न्यायिक सेवा परीक्षा की तैयारी कर रहे थे।

जज ने 16 जून को दर्ज कराई थी एफआईआर

अजमेर उत्तर सीओ रुद्र प्रकाश शर्मा ने बताया, ''हालांकि, जज मीणा ने 16 जून को महिला के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी, जिसमें आरोप लगाया गया है कि उसने 2019 में एक दिन जबरन शारीरिक संबंध बनाए और उसका वीडियो भी रिकॉर्ड कर लिया। इसके बाद उस महिला ने उन्हें उसके साथ शादी करने या 50 लाख रुपये कीमत का फ्लैट देने के लिए ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया।''

जज बोले- कई बार किया था सुसाइड का प्रयास

जज की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर में यह भी आरोप लगाया गया है कि महिला द्वारा उनका लगातार मानसिक शोषण किए जाने के कारण उन्होंने कई बार आत्महत्या करने का भी प्रयास किया। एफआईआर में कहा गया है, "अजमेर आने के बावजूद, महिला और उसके परिवार ने मुझे ब्लैकमेल करना बंद नहीं किया। वे पिछले कुछ सालों में मुझसे करीब 330,000 रुपये ले चुके थे और शादी करने के लिए भी मजबूर कर रहे थे। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर मैंने उससे शादी करने से इनकार किया तो वो मेरे खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज करा देंगे।"

इन धाराओं में दर्ज कराई गई हैं एफआईआर

जज मीणा की शिकायत पर अजमेर सिविल लाइंस थाने में महिला और उसके सात परिजनों के खिलाफ आईपीसी की धारा 384 (जबरन वसूली), 385, 504 (ब्लैकमेल) और 509 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। हालांकि, महिला ने भी जज के खिलाफ एक अलग शिकायत दर्ज कराई है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि जज मीणा शादी का झांसा देकर 2019 से उसके साथ बलात्कार कर रहे थे।

महिला की शिकायत पर दौसा महिला थाने में जज मीणा के खिलाफ आईपीसी की धारा 376 (बलात्कार) के तहत मामला दर्ज किया गया है। दौसा महिला थाने के एक पुलिस अधिकारी ने कहा, "हालांकि, हम जांच कर रहे हैं कि किसका आरोप सही है। महिला का मेडिकल कराया गया है। आगे की जांच जारी है।"