ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानराजस्थान में लू और गर्मी से राहत के संकेत, 2 दिन झमाझम बारिश का यलो अलर्ट, चलेंगी तेज हवाएं

राजस्थान में लू और गर्मी से राहत के संकेत, 2 दिन झमाझम बारिश का यलो अलर्ट, चलेंगी तेज हवाएं

Rajasthan Weather Update: एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में भी गरज, चमक और तेज हवाओं के साथ छिटपुट हल्की बारिश दर्ज की जा सकती है। इस रिपोर्ट पूरे हफ्ते का हाल...

राजस्थान में लू और गर्मी से राहत के संकेत, 2 दिन झमाझम बारिश का यलो अलर्ट, चलेंगी तेज हवाएं
bihar rain
Krishna Singhलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 19 Jun 2024 05:12 PM
ऐप पर पढ़ें

Rajasthan Weather Update: एक और पश्चिमी विक्षोभ पश्चिमी हिमालय पर एक्टिव होने वाला है। इसका असर उत्तर पश्चिमी भारत के मैदानी इलाकों तक होगा। इसके प्रभाव से 19 से 23 जून के दौरान जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड में तेज हवा के साथ छिटपुट हल्की बारिश होने की संभावना है। 19 से 21 जून के दौरान राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में भी गरज, चमक और तेज हवाओं के साथ छिटपुट हल्की बारिश दर्ज की जा सकती है। इस दौरान हवा की स्पीड 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटा रह सकती है। इससे राजस्थान के लोगों को झुलसाने वाली गर्मी से राहत मिल सकती है।

राजस्थान में इस हफ्ते कैसा रहेगा मौसम?
मौसम विभाग की ओर से जारी अपडेट में कहा गया है कि 21 जून तक पूर्वी राजस्थान के जयपुर, कोटा, भरतपुर जबकि पूर्वी राजस्थान के बीकानेर संभाग में कहीं-कहीं बारिश दर्ज की जा सकती है। बीकानेर संभाग में 21 और 22 जून को मौसम शुष्क रहेगा। 22 जून से पूर्वी राजस्थान के जयपुर, कोटा, भरतपुर, अजमेर, उदयपुर संभागों में कहीं-कहीं पर झमाझम बारिश देखी जा सकती है। इस बीच राजस्थान के कुछ हिस्सों में लू के साथ भीषण गर्मी का प्रकोप बरकरार रह सकता है।

इन राज्यों में मानसून की एंट्री के लिए गुड न्यूज
मौसम विभाग के मुताबिक, बीते 24 घंटे के दौरान पूवी राजस्थान में कुछ जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गई जबकि पश्चिमी राजस्थान में मौसम शुष्क रहा। जयपुर संभाग के कुछ इलाकों में लू का प्रकोप देखा गया। मौसम विभाग का कहना है कि अगले 2 से 3 दिनों के दौरान महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, ओडिशा, तटीय आंध्र प्रदेश और उत्तर-पश्चिमी बंगाल की खाड़ी के साथ बिहार और झारखंड के कुछ हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं।