राजस्थान: सचिन पायलट और ओम माथुर की वीआईपी सुरक्षा में नहीं होगी कटौती, जानिए वजह

नए वर्ष में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट और भाजपा के वरिष्ठ नेता ओमप्रकाश माथुर की वीआईपी सुरक्षा में कटौती नहीं होगी। दोनों वरिष्ठ नेताओं को जेड श्रेणी की सुरक्षा यथावत...

offline
Prem Meena लाइव हिंदुस्तान , जयपुर
Last Modified: Sun, 23 Jan 2022 8:33 AM

नए वर्ष में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट और भाजपा के वरिष्ठ नेता ओमप्रकाश माथुर की वीआईपी सुरक्षा में कटौती नहीं होगी। दोनों वरिष्ठ नेताओं को जेड श्रेणी की सुरक्षा यथावत जारी रहेगी। सीएम गहलोत ने राज्य स्तरीय रिव्यू कमेटी की समीक्षा के बाद कमेटी की अनुशंसा को हरी झंडी दे दी है। कमेटी ने दोनों नेताओं की वीआईपी सुरक्षा में किसी भी प्रकार की कटौती नहीं करने की अनुशंषा की थी। मुख्यमंत्री ने वीआईपी सुरक्षा वाली फाइल गृह विभाग को लौटा दी है। उल्लेखीय है कि राज्य का गृह विभाग प्रतिवर्ष वीआईपी व्यक्तियों को मिल रही सुरक्षा की समीक्षा करता है। विधायकों, सांसदों, पूर्व मंत्री और हाईकोर्ट के न्यायाधीश समेत अन्य विशिष्ट व्यक्तियों को मिल रही सुरक्षा को भी किसी प्रकार की कटौती नहीं होगी।

पिछले साल उठी थी वीआईपी सुरक्षा में कटौती करने की चर्चा

सचिन पायलट को जेड श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई है। जेड सुरक्षा श्रेणी के तहत करीब 22 सुरक्षाकर्मी और दो स्काॅर्ट गाड़िया मिलती है। सुरक्षाकर्मी मशीनगन एवं अत्याधुनिक संचार के माध्यमों से लैस होते हैं। गृह विभाग के अधिकारियों के अनुसार खुफिया एजेंसी इंटेलीजेंस की रिपोर्ट के आधार पर दोनों वरिष्ठ नेताओं को सुरक्षा दी जा रही है। 3 साल पूर्व पायलट को वाय श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई थी, लेकिन बाद में केंद्र सरकार की अनुशंसा पर जेड श्रेणी कर दिया गया। पिछले साल पायलट को मंत्री पद से बर्खास्त किए जाने के बाद भी यह चर्चा उठी थी की गहलोत सरकार पायलट की सुरक्षा में कटौती कर सकती है, लेकिन राज्य सरकार ने पायलट की सुरक्षा में किसी भी प्रकार की कटौती नहीं की थी। अब गहलोत सरकार ने नए वर्ष में भी पायलट को मिल रही सुरक्षा यथावत रखने का निर्णय लिया है। राज्य में करीब 150 से अधिक वीआईपी व्यक्तियों को सुरक्षा मिल रही है। जिन लोगों को सुरक्षा मिल रही है। राज्य सरकार समय और परिस्थितियों के अनुसार अति विशिष्ट व्यक्तियों को विभिन्न श्रेणियों की सुरक्षा मुहैया कराती है। केंद्र सरकार ने इंटेलीजेंस की खुफिया रिपोर्ट के बाद पायलट को जेड श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई थी।

इन विधायकों की भी जारी रहेगी सुरक्षा

राजस्थान में महुआ विधायक ओमप्रकाश हुडला और नदबई विधायक जोगिंदर सिंह अवाना को वाय श्रेणी की सुरक्षा मिली है। नदबई विधायक अवाना को राज्य सरकार ने पिछले साल पायलट खेमे के बगावत के समय वाय श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई थी। अवाना ने हत्या की धमकी मिलने के बाद सीएम अशोक गहलोत से सुरक्षा की गुहार लगाई थी। इसी प्रकार महुआ विधायक ओमप्रकाश को भी जान से मारने की धमकी मिली थी। हुडला ने भाजपा सांसद किरोड़ी लाल मीणा पर जान से मारने का आरोप लगाया था। विधायक हुडला की गुहार पर सीएम गहलोत ने भी उन्हें वाय श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश दिए थे। सीएम गहलोत राज्य के गृह विभाग का जिम्मा भी संभाल रहे हैं। गृह राज्य मंत्री राजेंद्र सिंह सीएम की ओर से गृह विभाग का कामकाज देखते हैं। गहलोत सरकार ने पुलिस प्रशासन की रिपोर्ट के आधार पर पूर्व ओलंपियन विधायक कृष्णा पूनिया को भी जेड श्रेणी की सुरक्षा मुहैया करा रही है।

ऐप पर पढ़ें