राजस्थान: 7 जिलों के एसपी बदले, 20 आईपीएस के तबादले, पायलट के जिले का एसपी भी बदला

कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्ष के निशाने पर आई गहलोत सरकार ने 7 जिलों के एसपी समेत 20 आईपीएस अफसरों के तबादले कर दिए है। राज्य के कार्मिक विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार आईपीएस नवज्योति गोगोई को...

offline
लाइव हिंदुस्तान Prem Meena
Last Modified: Sat, 22 Jan 2022 8:35 PM

कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विपक्ष के निशाने पर आई गहलोत सरकार ने 7 जिलों के एसपी समेत 20 आईपीएस अफसरों के तबादले कर दिए है। राज्य के कार्मिक विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार आईपीएस नवज्योति गोगोई को सीएम अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर का पुलिस आय़ुक्त बनाया गया है। कानून व्यवस्था से लिहाज से संवेदनशील भिवाड़ी का एसपी भी बदल दिया गया है। कार्मिक विभाग के अनुसार पी. रामजी को जोधपुर रेंज का आईजी बनाया गया है। प्रफुल्ल कुमार को आईजी आतंकवाद निरोधक दस्ता एटीएस जयपुर लगाया गया है। एपीओ चल रहे ओमप्रकाश प्रथम को आईजी बीकानेर रेंज लगाया गया है। सत्येंद्र सिंह को डीआईजी एसओजी जयपुर लगाया गया है। हरेंद्र कुमार महावर को डीआईजी एसएसबी जोधपुर लगाया गया है। राजेश सिंह को डीआईजी रेल्वेज जयपुर लगाया गया है।

शांतनु कुमार भिवाड़ी के एसपी बने

आईपीएस प्रीति जैन को चित्तौड़गढ़ का एसपी लगाया गया है। अजय सिंह को हनुमानगढ़ का एसपी बनाया गया है। रामेश्वर सिंह को भरतपुर का एसपी बनाया गया है। भंवर सिंह नाथावत को जैसलमेर का एसपी बनाया गया है। गौरव यादव को एसपी एसओजी जयपुर लगाया गया है। राममूर्ति जोशी को नागौर का एसपी बनाया गया है। अभिजीत सिंह को एसपी सीआईडी सुरक्षा जयपुर लगाया गया है। दिंगत आनंद को चूरू का एसपी बनाया गया है। वंदिता राणा को पुलिस उपायुक्त पश्चिम जोधपुर शहर लगाया गया है। शांतनु कुमार सिंह को भिवाड़ी एसपी लगाया गया है। सीएम गहलोत ने पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के निर्वाचन क्षेत्र के जिला टोंक का एसपी भी बदल दिया है। मनीष त्रिपाठी को टोंक जिले का एसपी बनाया गया है। देवेंद्र कुमार विश्नोई को कंमाडेंट 5 वीं बटालियन आरएसी जयपुर लगाया गया है। नारायण टोगस के पुलिस उपायुक्त क्राइम पुलिस आयुक्तालय जयपुर लगाया गया है।

कानून व्यवस्था को पटरी पर लाने की कवायद

गहलोत सरकार ने प्रदेश की कानून व्यवस्था को पटरी पर लाने की कवायद के तहत पुलिस अफसरों के तबादले किए है। भाजपा कानून व्यवस्था के मुद्दे पर लगातार सीएम गहलोत पर निशान साधती रही है। सीएम गहलोत के पास गृह विभाग की भी जिम्मेदारी है। ऐसे में कानून व्यवस्था बनाए रखने की जिम्मेदारी सीएम गहलोत की अधिक बनती है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया राज्य में पूर्णकालीन गृहमंत्री की मांग करते रहे हैं।

ऐप पर पढ़ें