ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानRajasthan: RPS की विवादास्पद पोस्ट- रामायण-महाभारत मिथकीय ग्रंथ, बोले- माफी नहीं जवाब देंगे

Rajasthan: RPS की विवादास्पद पोस्ट- रामायण-महाभारत मिथकीय ग्रंथ, बोले- माफी नहीं जवाब देंगे

राजस्थान में आरएएस अफसर के बाद आरपीएस अफसर ने विदावास्पद पोस्ट किया है। आरपीएस अफसर हरिचरण मीना ने इशारों ही इशारों में ब्राह्मणों पर कटाक्ष किया है। रामायण-महाभारत को मिथकीय ग्रंथ बताया है।

Rajasthan: RPS की विवादास्पद पोस्ट- रामायण-महाभारत मिथकीय ग्रंथ, बोले- माफी नहीं जवाब देंगे
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSat, 17 Sep 2022 10:30 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में आरएएस अफसर के बाद आरपीएस अफसर ने विदावास्पद पोस्ट किया है। आरपीएस अफसर हरिचरण मीना ने इशारों ही इशारों में ब्राह्मणों पर कटाक्ष किया है। आरपीएस अफसर ने लिखा- अगर किसी को लगता है तो वो बिना पंख के बंदर और भालू को उड़ा सकता है तो आज भी कोई कोर्ट के सामने उड़ा कर दिखाएं। पूरा देश देखने को तैयार है। हरिचरण ने आगे लिखा रामायण और महाभारत केवल मिथकीय ग्रंथ हैं। इतिहास में उनकी प्रामाणिकता स्वीकार नहीं। ये मैं नहीं कहता, भारत के इतिहास में लिखा है। आगे लिखा- संत कबीर के अर्थ सहित दोहे बताए जो आज गूगल से गायब है।

काबुल के शिलालेख नौकर बताएं तो हम क्या करें

आरपीएस हरिचरण मीन ने एक और पोस्ट की है। लिखा- अपने चारण, भाट, दरवारी, इतिहास लेखकों ने तो महाराजा जयसिंह द्वितीय ही बताया है। अब काबुल के शिलालेख मुगल बाबर के वंशजों का नौकर बताएं तो हम क्या करें ?? हम देश के साथ हैं। उन्होंने RAS केसर लाल मीणा और AAO पिंटू मीणा के बयान का सोशल मीडिया पर खुलकर समर्थन किया है। आरपीएस अफसर दो कदम आगे बढ़े हैं। रामायण और महाभारत को साथ ही उन्होंने रामायण और महाभारत को भी केवल एक मिथकीय ग्रंथ बताया है। उन्होंने दावा किया कि इनकी इतिहास में प्रामाणिकता स्वीकार नही है। 

पहले भी दो अफसर कर चुके हैं विवादास्पद पोस्ट

उल्लेखनीय है कि इससे पहले आरएएस केसर लाल मीणा और पिंटू मीणा ने विवादित पोस्ट किए थे। जिसको लेकर काफी बवाल हुआ था। मीणा ने फेसबुक पर पोस्ट करते हुए आरएएस केसर लाल मीणा और पिंटू मीणा को धन्यवाद दिया है। कहा- टीम मानवतावादी विश्व समाज की अवधारणा अब सामने आ रही है। उन्होंने कहा कि अपने बयान पर माफी नहीं मांगें कोर्ट में लड़कर जवाब देना। 

epaper