ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानRS चुनाव: राजस्थान में कांग्रेस को मिली राहत, माकपा करेगी भाजपा का विरोध; जानें वजह 

RS चुनाव: राजस्थान में कांग्रेस को मिली राहत, माकपा करेगी भाजपा का विरोध; जानें वजह 

राज्यसभा चुनाव से एक दिन पहले कांग्रेस को बड़ी राहत मिली है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने भाजपा के विरोध में मतदान करने का निर्णय लिया है। मतलब साफ है कि 2 वोट कांग्रेस को मिलेंगे।

RS चुनाव: राजस्थान में कांग्रेस को मिली राहत, माकपा करेगी भाजपा का विरोध; जानें वजह 
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरThu, 09 Jun 2022 07:04 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राज्यसभा चुनाव से एक दिन पहले कांग्रेस को बड़ी राहत मिली है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने भाजपा के विरोध में मतदान करने का निर्णय लिया है। मतलब साफ है कि माकपा के वोट कांग्रेस को मिलेंगे। माकपा ने पिछली बार राज्यसभा चुनाव में मतदान का बहिष्कार किया था। लेकिन इस बार पार्टी ने भाजपा के विरोध में मतदान करने का निर्णय लिया है। माकपा के निर्णय से कांग्रेस पार्टी को दो वोट मिलेंगे। कांग्रेस को माकपा  के किसी विधायक को साधने की आवश्यकता नहीं होगी। हाल ही में जयपुर दौरे पर आए पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रकाश करात ने राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस के पक्ष में मतदान करने के संकेत दिए थे। करात ने कहा था कि राजस्थान राज्यसभा चुनाव में भाजपा के विरोध में मतदान करेंगे। माकपा विधायक बलवान पूनिया कांग्रेस के पक्ष में मतदान करने की बात कह चुके हैं।

माकपा के  निर्णय से कांग्रेस को मिली राहत 

कम्युनिस्ट पार्टी के वोट करने के एलान के बाद अब कांग्रेस को काफी हद तक राहत मिली है। क्योंकि बीटीपी ने मतदान में शामिल नहीं होने के लिए अपने दोनों विधायकों को व्हिप जारी किया है। हालांकि, यह देखना होगा कि बीटीपी के दोनों विधायक पार्टी लाइन पर चलते है या नहीं। विधायक राजकुमार रोत और रामप्रसाद डिंडोर पार्टी लाइन से इतर होकर निर्णय लेते रहे हैं। फिलहाल दोनों विधायकों के लेकर संदेह की स्थिति बनी हुई है। लेकिन गहलतो से मुलाकात के बाद दोनों विधायकों को कांग्रेस को वोट देने के संकेत दिए है।

डोटासरा बोले हमारे पास 126 विधायक 

अब मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी मतदान प्रक्रिया में हिस्सा लेगी, तो ऐसे में कांग्रेस के पास पूरे 123 वोट हो चुके हैं, जो जीत के लिए पर्याप्त हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि हमारे पास 126 विधायकों का समर्थन हासिल है लेकिन फिर भी निर्दलीय और भाजपा के उम्मीदवार कह रहे हैं कि कई विधायक उनसे संपर्क में हैं। ऐसे में साफ है कि विधायक कहां से आएंगे, खरीद-फरोख्त से ही विधायक आएंगे। इसलिए भाजपा के नेताओं की नैतिक हार हो चुकी है। 

epaper