ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानRajasthan Politics: ''दलित बच्चे को न्याय नहीं मिला तो समर्थन वापस ले लेंगे', फिर बोले मंत्री गुढ़ा

Rajasthan Politics: ''दलित बच्चे को न्याय नहीं मिला तो समर्थन वापस ले लेंगे', फिर बोले मंत्री गुढ़ा

राजस्थान में बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए 6 विधायकों के अगुवाई कर रहे मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि जालौर के दलित छात्र को न्याय नहीं मिलता है तो गहलोत सरकार से समर्थन वापस ले लेंगे।

Rajasthan Politics: ''दलित बच्चे को न्याय नहीं मिला तो समर्थन वापस ले लेंगे', फिर बोले मंत्री गुढ़ा
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरWed, 17 Aug 2022 06:53 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के जालौर जिले में दलित छात्र की मौत के मामले ने राजनीति रंग ले लिया है। बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए 6 विधायकों के अगुवाई कर रहे मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि जालौर के दलित छात्र को न्याय नहीं मिलता है तो गहलोत सरकार से समर्थन वापस ले लेंगे। जयपुर में बुधवार को मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि दोषी साबित होने पर दलित बच्चे के हत्यारे को सरेआम फांसी दे दो। उन्होंने यहां तक कह दिया कि न्याय नहीं मिला तो गहलोत सरकार से समर्थन वापस ले लेंगे, लेकिन अपराधी के साथ राजपूत समाज को जोड़कर विलेन बनाने की कोशिश हुई तो बर्दाश्त नहीं करेंगे। मंत्री गुढ़ा ने कहा कि राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट पर भी जमकर निशाना साधा। राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि दलित के साथ अन्याय हो तो राजेंद्र गुढ़ा अपनी जान भी दे सकता है। लेकिन जो नेता अब इस मामले में राजनीति कर रहे हैं, वह जब डांगावास प्रकरण हुआ और वहां 5 दलितों की जघन्य हत्या की गई तब कहां थे। चाहे हमारे वर्तमान अध्यक्ष गोविंद डोटासरा हों या फिर पूर्व अध्यक्ष सचिन पायलट, उस समय भी दोनों प्रमुख पदों पर थे, लेकिन उस समय इन्होंने एक भी बात नहीं कही।

इस्तीफा देने वाले विधायक चुप क्यों थे

मंत्री गुढ़ा ने कहा कि इस्तीफा देने वाले पानाचंद मेघवाल भी डांगावास दलित हत्याकांड के समय चुप क्यों थे ? राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि दलित बालक की हत्या की हर कोई निंदा करता है और अगर इस बालक को सरकार की ओर से न्याय नहीं मिलता है तो हम सभी बसपा से आए हुए साथी सरकार से अपना समर्थन वापस ले लेंगे. भले ही इसके लिए हमारी विधानसभा से सदस्यता ही क्यों न चली जाए। राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि इस बच्चे के मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुना जाए और अपराधी को दोषी होने पर सरेआम फांसी पर लटका दिया जाए। लेकिन अगर इस मामले में राजनीति करते हुए किसी ने पूरे राजपूत समाज पर सवाल उठाए तो वह भी हम बर्दाश्त नहीं करेंगे। 

राजेंद्र गुढा कैबिनेट मंत्री मेघवाल से हुए नाराज

अपराधी के साथ राजपूत समाज को जोड़कर विलेन बनाने की कोशिश हुई तो बर्दाश्त नहीं करेंगे। सैनिक कल्याण मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने राजधानी जयपुर में प्रेस वार्ता में कहा कि राजपूत समाज को खलनायक बनाने की कोशिश ना करें।राजेंद्र गुढ़ा अपने ही कैबिनेट में सहयोगी मंत्री गोविंद मेघवाल से भी नाराज नजर आए। उन्होंने बुधवार सुबह गोविंद मेघवाल के वायरल हुए ऑडियो को लेकर कहा कि हमारे मंत्रिमंडल में साथी गोविंद मेघवाल भी आज मोबाइल पर कह रहे थे कि ठाकुरों ने हमें पीट-पीटकर हमारी (मंगर) पीठ तोड़ दी। राजेंद्र गुढ़ा ने कहा कि मेरी गोविंद मेघवाल से हाथ जोड़कर विनती है कि किसी भी अपराधी की कोई जाति नहीं होती और इस मामले में एक समाज को विलेन बनाने की कोशिश नहीं की जाए। 

epaper