ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानगोविंद सिंह डोटासरा और राजेंद्र सिंह राठौड़ के बीच छिड़ा 'डिजिटल वॉर', वजह है दिलचस्प

गोविंद सिंह डोटासरा और राजेंद्र सिंह राठौड़ के बीच छिड़ा 'डिजिटल वॉर', वजह है दिलचस्प

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजेंद्र सिंह राठौड़ सोशल मीडिया पर भिड़ गए है। दोनों नेताओं ने एक-दूसरे पर जुबानी हमला बोला है। निशाने पर लिया है।

गोविंद सिंह डोटासरा और राजेंद्र सिंह राठौड़ के बीच छिड़ा 'डिजिटल वॉर', वजह है दिलचस्प
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरThu, 01 Feb 2024 03:41 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा और बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजेंद्र सिंह राठौड़ सोशल मीडिया पर भिड़ गए है। दोनों नेताओं ने एक-दूसरे पर जुबानी हमला बोला है। दरअसल, एक परिवार से 4-4 आरएएस बनने वाला बयान देकर मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा ने दो दिन पहले कांग्रेस के प्रदेश अ्ध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा पर तंज कसा था। सीएम भजनलाल ने पूछा था कि डोटासरा जी, कौन सी चक्की का आटा खिलाते हैं जो एक ही परिवार से 4-4 आरएएस अफसर बन गए। उन सब को एक समान अंक भी मिले।

सीएम के इस बयान पर डोटासरा ने पलटवार करते हुए कहा कि तारानगर वाले नेताजी (राजेंद्र राठौड़) से पूछ लीजिए कि कौन-सी चक्की का आटा खाया।बुधवार शाम को मीडिया से मुखातिब होते हुए कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने सदन में उन पर व्यक्तिगत आरोप लगाए। उन आरोपों का जवाब विधानसभा में ही दूंगा। ऐसा जवाब दूंगा जिसे सुनकर सत्ता पक्ष के सदस्य चिल्ला चिल्ला कर सदन छोड़कर भाग जाएंगे। डोटासरा ने कहा कि एक ही परिवार से 4-4 आरएएस बने हैं तो सरकार के पास तमाम जांच एजेंसियां हैं। जांच कराने से कौन मना कर रहा है।

राजेंद्र सिंह राठौड़ ने किया वार

गुरुवार को डोटासरा का नाम लिए बिना राजेंद्र राठौड़ ने सोशल मीडिया मंच 'एक्स' पर लिखा, 'युवा आज भी पूछ रहे हैं - एक ही परिवार से 4-4 आरएएस बनना संयोग था या प्रयोग?'। इस पर डोटासरा ने पलटवार करते हुए लिखा, 'हमारे यहां बच्चों को मेहनत करने और पढ़ने की शिक्षा दी जाती है, टोल, बजरी और शराब के धंधे की नहीं।' गुरुवार को राठौड़ ने ट्वीट करते लिखा, इतना भी गुमान ना कर अपनी जीत पर ऐ बेखबर, शहर में तेरी जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के हैं. सीकर वाले नेताजी, इतना भी अहंकार ठीक नहीं है। हार और जीत एक सिक्के के दो पहलू है. अभी एक परीक्षा और बाकी है। युवा आज भी पूछ रहे हैं - एक ही परिवार से 4-4 आरएएस बनना संयोग था या प्रयोग ? युवाओं के सपनों के सौदागरों को माफ नहीं किया जाएगा. जवाब तो देना ही पड़ेगा। 

डोटासरा ने किया पलटवार

इसके जवाब में राठौड़ की पोस्ट को शेयर करते गोविन्द सिंह डोटसारा ने लिखा, गलतफहमी ना पाल, ये जनता का पर्चा है तेरे सिर्फ़ टोल, बजरी, भूमाफिया होने की चर्चा है काश. अवैध अड्डों से इतर तारानगर वाले नेताजी की जनता में भी चर्चा रहती तो जवाब सदन में मिलता और हां. अहंकार नहीं, स्वाभिमान है! हमारे यहां बच्चों को मेहनत करने और पढ़ने की शिक्षा दी जाती है, टोल, बजरी और शराब के धंधे की नहीं. अगली परीक्षा के लिए शुभकामनाएं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें