ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानराजस्थान में कांग्रेस के मिस्ड कॉल अभियान और विज्ञापन पर आपत्ति, EC ने थमाया दो नोटिस

राजस्थान में कांग्रेस के मिस्ड कॉल अभियान और विज्ञापन पर आपत्ति, EC ने थमाया दो नोटिस

Rajasthan Election: राजस्थान में कांग्रेस के 'मिस्ड कॉल' अभियान पर भाजपा ने चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई है। चुनाव आयोग ने कांग्रेस को नोटिस जारी करते हुए शिकायत दर्ज कराई है।

राजस्थान में कांग्रेस के मिस्ड कॉल अभियान और विज्ञापन पर आपत्ति, EC ने थमाया दो नोटिस
Krishna Singhभाषा,जयपुरWed, 22 Nov 2023 11:20 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में 25 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले, चुनाव आयोग ने बुधवार को कांग्रेस की राज्य इकाई को उसके विज्ञापनों पर दो कारण बताओ नोटिस जारी किए। एक नोटिस मतदाताओं को कथित तौर पर प्रलोभन देने के आरोपों पर जबकि दूसरा समाचार पत्रों में कथित तौर पर खबरों के रूप में राजनीतिक विज्ञापन देने के मामले में जारी किया गया है। निर्वाचन आयोग ने राज्य कांग्रेस प्रमुख गोविंद सिंह डोटासरा को क्रमशः गुरुवार दोपहर 3 बजे और शुक्रवार शाम 7 बजे तक नोटिस का जवाब देने को कहा है। दोनों नोटिस भाजपा की ओर से दाखिल की गई शिकायतों के बाद जारी किए गए हैं।

पीटीआई भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, निर्वाचन आयोग ने 25 नवंबर को होने वाले राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले मतदाताओं को कथित तौर पर प्रलोभन देने के मामले में बुधवार को प्रदेश कांग्रेस प्रमुख को नोटिस जारी किया। भाजपा ने आरोप लगाया था कि कांग्रेस ने राज्य में सत्ता बरकरार रखने पर उसकी 'गारंटी' का लाभ पाने के लिए लोगों से मोबाइल नंबर पर मिस्ड कॉल करने का कहकर 'भ्रष्ट' आचरण किया।

भाजपा ने अपनी शिकायत में कहा था कि कॉल करने वाले के लिए एक पंजीकृत नंबर तैयार किया गया था, जिससे यह धारणा बनाई गई कि किसी विशेष उम्मीदवार या पार्टी, विशेष रूप से कांग्रेस पार्टी के लिए वोट करने से केवल कॉल करने वाले को ही लाभ मिलेगा।'

आयोग ने भाजपा की शिकायत के बाद समाचार पत्रों में कथित तौर पर खबरों के रूप में राजनीतिक विज्ञापन देने के मामले में भी राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। आयोग ने डोटासरा को बृहस्पतिवार अपराह्न तीन बजे तक नोटिस का जवाब देने के लिए कहा है।

नोटिस में कहा गया है कि विज्ञापन के इस प्रारूप, सामग्री, भाषा और 'प्लेसमेंट' का उपयोग करने से बचें। ऐसा विज्ञापन मार्च में आपकी ही पार्टी की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार, लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम और आदर्श आचार संहिता की भावना का उल्लंघन करता है। आयोग असम विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस की ओर से भाजपा के खिलाफ दर्ज कराई गई इसी तरह की शिकायत का जिक्र किया है। 

भाजपा ने मंगलवार को कांग्रेस पर आरोप लगाया था कि वह राजस्थान विधानसभा चुनाव में उसके पक्ष में लहर होने के बारे में समाचार या राय के रूप में विज्ञापन दे रही है। भाजपा ने निर्वाचन आयोग से राज्य की सत्तारूढ़ पार्टी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। नोटिस में कहा गया है कि ऐसा प्रतीत होता है कि विज्ञापन को मतदाताओं को भ्रमित करने की दृष्टि से एक समाचार आइटम की तरह तैयार किया गया है। यह न केवल भ्रामक है, वरन इसका उद्देश्य चुनाव के नतीजे के बारे में मतदाताओं के मन में भ्रम पैदा करना है, ताकि स्थिति को प्रभावित करने का प्रयास किया जा सके।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें