ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानअशोक गहलोत के बनाए 17 नए जिलों पर संकट, भजनलाल सरकार कराएगी रिव्यू; कमेटी गठित

अशोक गहलोत के बनाए 17 नए जिलों पर संकट, भजनलाल सरकार कराएगी रिव्यू; कमेटी गठित

राजस्थान में अशोक गहलोत के राज में बने 17 नए जिलों और 3 नए संभाग खत्म हो सकते है। इनका भजनलाल सरकार रिव्यू करवाएगी। कई छोटे जिलों पर संकट आ सकता है। कैबिनेट सब कमेटी का गठन किया गया है।

अशोक गहलोत के बनाए 17 नए जिलों पर संकट, भजनलाल सरकार कराएगी रिव्यू; कमेटी गठित
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरThu, 13 Jun 2024 05:55 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में अशोक गहलोत के राज में बने 17 नए जिलों और 3 नए संभाग खत्म हो सकते है। इनका भजनलाल सरकार रिव्यू करवाएगी।  कई छोटे जिलों पर संकट आ सकता है। नए जिलों के रिव्यू के लिए उप मुख्यमंत्री प्रेम चंद बैरवा के संयोजन में कैबिनेट सब-कमेटी बनाई गई है। इस कैबिनेट सब-कमेटी में राजस्व मंत्री हेमंत मीणा भी शामिल है। 

कैबिनेट सब कमेटी गठित 

नवगठित जिलों और संभागों की समीक्षा के लिए बनी मंत्रिमंडलीय उप समिति के संयोजक डिप्टी सीएम प्रेमचंद बैरवा होंगे। इसके साथ मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़, मंत्री कन्हैयालाल, मंत्री सुरेश सिंह रावत और हेमंत मीणा उप समिति में सदस्यों के तौर पर शामिल रहेंगे। मंत्रिमंडलीय उप समिति राजस्व विभाग की अधिसूचना के तहत नवगठित 17 जिलों और 3 संभागों के प्रशासनिक दृष्टिगत क्षेत्राधिकार, सुचारू संचालन, प्रशासनिक आवश्यकता, वित्तीय संसाधनों की उपलब्धता सहित अन्य के संबंध में वर्तमान परिप्रेक्ष्य में समीक्षा कर अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंपेगी।

समिति की रिपोर्ट के आधार पर सरकार ने जिलों और संभाग के कम या ज्यादा पर निर्णय लेगी। उल्लेखनीय है कि पूर्ववर्ती गहलोत सरकार ने चुनाव से ठीक पहले 17 जिले और तीन संभागों का गठन किया था। इन जिलों और संभाग के गठन के बाद भाजपा ने तत्कालीन समय पर कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाया था कि उन्होंने वोट बैंक की राजनीति का लाभ लेने के लिए नियमों को दरकिनार करते हुए नए जिलों और संभागों का गठन किया है. इनके गठन में भौगोलिक और क्षेत्रीय स्थित को नहीं देखा गया।