ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानMP की तरह राजस्थान में CM चेहरे को लेकर चौंका सकते हैं पीएम मोदी, तेजी से बदले समीकरण

MP की तरह राजस्थान में CM चेहरे को लेकर चौंका सकते हैं पीएम मोदी, तेजी से बदले समीकरण

एमपी और छत्तीसगढ़ के सीएम बनने के बाद अब राजस्थान की बारी है। कल राजस्थान को नया सीएम मिल सकता है। राजनीतिक विश्वलेषकों का मानना है कि पीएम मोदी एमपी की तरह नए व्यक्ति को कमान सौंप सकते है।

MP की तरह राजस्थान में CM चेहरे को लेकर चौंका सकते हैं पीएम मोदी, तेजी से बदले समीकरण
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरMon, 11 Dec 2023 05:39 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्यप्रदेश में मोहन यादव को सीएम बनाकर पीएम मोदी ने राजनीतिक विश्लेषकों को चौंका दिया है। मोहन यादव का नाम सीएम के लिए चर्चा में नहीं था। लेकिन दिग्गजों को पीछे छोड़ दिया है। सियासी जानकारों का मानना है कि पीए मोदी एमपी की तरह राजस्थान में भी चौंका सकते है। नए चेहरे को प्रदेश के कमान सौंपी जा सकती है। हालांकि, प्रबल संभावना यही है कि वसुंधरा राजे, दीया कुमारी, किरोड़ी लाल और महंत बालकनाथ में से कोई सीएम बन सकता है। लेकिन जिस तरह से एमपी में मोहन यादव को सीएम बनाकर पीएम ने ओबीसी कार्ड खेला है। वैसे ही समीकरण राजस्थान में भी साध सकते है। एमपी के फाॅर्मूले के बाद राजस्थान में तेजी से राजनीतिक घटनाक्रम बदल रहा है। 

जयपुर में कल बीजेपी विधायक दल की बैठक

बता दें राजस्थान में नए सीएम को लेकर सस्पेंस बना हुआ है। कल मंगलवार को विधायक दल की बैठक बुलाई गई है। नए सीएम को लेकर मंथन होगा। सीएम रेस में दीया कुमारी, किरोड़ी लाल मीणा, ओम माथुर, गजेंद्र सिंह शेखावत और पूर्व सीएम वसुंधरा राजे रेस में शामिल है। हालांकि, महंत बालकनाथ ने खुद को रेस से अलग कर लिया है। जबकि सियासी जानकार ऐसा मान रहे हैं कि केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत भी रेस से बाहर हो चुके हैं। क्योंकि वजह यह है कि पार्टी को अगर शेखावत को सीएम बनाना ही था तो विधायक का चुनाव लड़वाते है। लेकिन ऐसा नहीं किया है। मतलब साफ है शेखावत रेस से बाहर हो चुके है। दीया कुमारी, किरोड़ी लाल, ओम माथुर और वसुंधरा राजे प्रमुख दावेदार है। पार्टी पर्यवेक्षक राजनाथ सिंह, सरोड पांडे़ और विनोद तावडे़ कल जयपुर आएंगे। 

गहलोत ने साधा निशाना 

दूसरी तरफ राजस्थान के कार्यवाहक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीएम फेस घोषित नहीं करने पर बीजेपी पर निशाना साधा है। गहलोत ने ट्वीट किया-विधानसभा चुनावों के परिणाम के 8 दिन बीत जाने के बाद भी BJP अपने मुख्यमंत्री नहीं चुन पाई है। इससे ध्यान भटकाने के लिए एक राज्यसभा सांसद के घर हुई IT की कार्रवाई को लेकर प्रदर्शन कर मुद्दा बनाने का असफल प्रयास कर रही है। IT विभाग को तत्काल बुलेटिन जारी कर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए और कानून को अपना काम करने देना चाहिए। परन्तु BJP को बताना चाहिए कि आम जनता मुख्यमंत्री चयन को लेकर कब तक असमंजस की स्थिति में रहेगी और जनहित के कार्य प्रभावित होते रहेंगे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें