ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानअब मैं रिटायर हो सकती हूं, राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का बड़ा बयान; क्या संकेत?

अब मैं रिटायर हो सकती हूं, राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का बड़ा बयान; क्या संकेत?

राजस्थान विधानसभा चुनाव को चुनाव को देखते हुए पूरे प्रदेश में राजनीतिक तापमान बेहद ही गर्म है। उम्मीदवार और पार्टियां एक-दूसरे पर जमकर हमले बोल रहे हैं।

अब मैं रिटायर हो सकती हूं, राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का बड़ा बयान; क्या संकेत?
Swati Kumariलाइव हिंदुस्तान,जयपुरFri, 03 Nov 2023 11:06 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान विधानसभा चुनाव को चुनाव को देखते हुए पूरे प्रदेश में राजनीतिक तापमान बेहद ही गर्म है। उम्मीदवार और पार्टियां एक-दूसरे पर जमकर हमले बोल रहे हैं। इसी बीच पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने झालावाड़ में एक जनसभा के दौरान बड़ी बात कह दी। दरअसल, शुक्रवार को झालावाड़ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए वसुंधरा राजे ने कहा, 'मुझे लग रहा है कि अब मैं रिटायर हो सकती हूं।' इसके बाद लोग तालियां बजाने लगे।

राजे ने कहा, 'मेरे बेटे सांसद दुष्यंत सिंह को आज सुनकर लगा कि हां वो ठीक है। आपलोगों ने उन्हें अच्छी तरह से सीखा-सीखाकर प्यार से रस्ते पर लगा दिया है। अब मुझे लगता है कि मुझे कुछ करने की जरूरत नहीं है। मुझे लगता है कि आज उनके ऊपर निगाह रखने की कोई जरूरत नहीं है। उनके ऊपर पड़ने की जरूरत नहीं है। वो आपलोगों के काम ऐसे ही करेंगे. ये झालावाड़ है और इस झालावाड़ को हम हमेशा याद रखेंगे।'

उन्होंने आगे कहा, 'झालावाड़ में इस बार मेरा 10वां नामांकन है। पहला नोमिनेशन नवंबर 1989 में सांसद के लिए भरा। लगातार पांच बार सांसद और चार बार विधायक चुनी गई। आपने सांसद दुष्यंत सिंह को लगातार चार बार सांसद बनाया। झालवाड़ के आशीर्वाद से 1998 में केंद्र में विदेश मंत्री बनी। उसके बाद केंद्र में लघु उद्योग, कृषि एवं ग्रामीण उद्योग, कार्मिक, लोक शिकायत, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष जैसे महत्वपूर्ण विभागों की मंत्री बनी। अभूतपूर्व बहुमत के साथ 2003 और 2013 में प्रदेश की मुख्यमंत्री बनी। प्रदेश की पहली महिला मुख्यमंत्री भी बनीं।'

राजे ने कहा, 'जब-जब भी मैंने नामांकन भरा, झालवाड़वासियों ने मुझसे एक ही बात कही-आपका काम नामांकन भरने का है, बाकी काम हमारा है। अब यहां से आप नहीं, हम चुनाव लड़ रहें हैं। झालावाड़ चुनाव लड़ रहा है। अधिकांश प्रत्याशी नामांकन भरने से लेकर चुनाव परिणाम आने तक अपना रण क्षेत्र छोड़ कर कहीं नहीं जाते. अपने क्षेत्र में ही डटे रहते हैं, लेकिन मैं सौभाग्यशाली हूं, कि मुझे पूरे समय झालावाड़ रुकने की आवश्यकता कभी नहीं हुई।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें