ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानRajasthan Election: राजस्थान में कांग्रेस की मुसीबत क्यों बने सचिन पायलट समर्थक?

Rajasthan Election: राजस्थान में कांग्रेस की मुसीबत क्यों बने सचिन पायलट समर्थक?

राजस्थान में विधानसभा चुनाव प्रचार अंतिम चरम में है। कांग्रेस-बीजेपी के स्टार प्रचारकों ने पूरी ताकत झोंक रखी है। लेकिन कांग्रेस की सभाओं में पायलट के कथित समर्थक परेशानी खड़े कर रहे हैं।

Rajasthan Election: राजस्थान में कांग्रेस की मुसीबत क्यों बने सचिन पायलट समर्थक?
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरWed, 22 Nov 2023 06:59 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में विधानसभा चुनाव प्रचार अंतिम चरम में है। कांग्रेस-बीजेपी के स्टार प्रचारकों ने पूरी ताकत झोंक रखी है। लेकिन कांग्रेस की सभाओं में सचिन पायलट के कथित समर्थक परेशानी खड़े कर रहे हैं। अजमेर के केकड़ी में प्रियंका गांधी की मौजूदगी में पायलट समर्थकों ने नारेबाजी कर शुरू कर दी। इससे प्रियंका गांधी भी नाराज हो गई। प्रियंका गांधी के उद्बोधन के दौरान कई बार भीड़ में सचिन पायलट समर्थित नारे लगे। जिसके चलते प्रियंका गांधी ने यहां तक कह दिया- क्या बात है, मेरी बातें नहीं सुननी? सभा में प्रियंका गांधी करीब आधे घंटे तक भाषण दिया। इससे पहले प्रियंका गांधी की टोंक में हुई जनसभा में गहलोत के विरोध में नारे लगे थे। भीड़ ने सचिन पायलट जिंदाबाद के नारे लगाए थे। हालांकि, उस समय प्रियंका गांधी ने इग्नोर कर दिया था। 

पायलट कह रहे हैं सरकार रिपीट की बात 

सियासी जानकारों का कहना है कि सचिन पायलट सुलह के बाद बार-बार कांग्रेस सरकार रिपीट होने की बात कह रहे हैं। सचिन पायलट कोई ऐसा बयान नहीं दे रहे हैं जिससे पार्टी को चुनाव में नुकसाह हो, लेकिन उनके उत्साही समर्थक चुप रहने के लिए तैयार नहीं दिखाई दे रहे हैं। सचिन पायलट के समर्थक विधानसभा क्षेत्रों में कांग्रेस प्रत्याशियों के लिए भी परेशान खड़े कर देते हैं। जहां गुर्जर समुदाय दी आबादी है वहां कांग्रेस प्रत्याशियों को कई बार नारेबाजी के चलते असहज स्थिति का सामना करना पड़ रहा है। हाल ही में सिकराय के गहलोत की मंत्री ममता भूपेश को विरोध का सामना करना पड़ा था। दरअसल, सचिन पायलट को सीएम नहीं बनाने से गुर्जर समाज के युवक नाराज है। बता दें इससे पहले भी मंत्री अशोक चांदना की तरफ भरी सभा में जूता उछाला गया था। काफी बयानबाजी भी हुई थी। आरोप सचिन पायसट के कथित समर्थकों पर लगा। 

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 25 नवंबर को मतदान

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए 25 नवंबर को मतदान है। वहीं, 3 दिसंबर तो परिणाम आएगा। हमेशा की तरह इस बार भी पांचों राज्यों में कांग्रेस और बीजीपी में कांटे की टक्कर है। लेकिन अभी तक हुए सर्वे के मुताबिक कांग्रेस का पलड़ा भारी दिखाई दे रहा है। हिमाचल और कर्नाटक चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस काफी उत्साहित है। राजस्थान में हर पांच साल बाद सरकार बदलने का ट्रेंड रहा है। हालांकि, सीएम गहलोत इस बार सरकार रिपीट होने का दावा कर रहे है। सीएम गहलोत का कहना है कि कांग्रेस की 7 गारंटियों और कल्याणाकारी योजनाओं की बदौलत उनकी सरकार रिपीट होगी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें