ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानराजस्थान में शाह के काफिले में बड़ा हादसा, बिजली के तार की चपेट में आया रथ, बाल-बाल बचे

राजस्थान में शाह के काफिले में बड़ा हादसा, बिजली के तार की चपेट में आया रथ, बाल-बाल बचे

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मंगलवार को उस वक्त बाल-बाल बच गए जब वह राजस्थान के नागौर में रथ यात्रा कर रहे थे। उनके वाहन का ऊपरी हिस्सा बिजली के तार की चपेट में आ गया। हादसे में वह बाल-बाल बचे हैं।

राजस्थान में शाह के काफिले में बड़ा हादसा, बिजली के तार की चपेट में आया रथ, बाल-बाल बचे
Krishna Singhभाषा,जयपुरWed, 08 Nov 2023 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह मंगलवार को उस समय बाल-बाल बच गए जब उनका रथ एक बिजली के तार की चपेट में आ गया। रथ का ऊपरी हिस्सा तार की चपेट में आने से तेज स्पार्किंग हुई। शाह राजस्थान के नागौर में एक रथ में यात्रा कर रहे थे। इस दौरान रथ का ऊपरी हिस्सा बिजली के तार की चपेट में आ गया। अमित शाह इस घटना में बाल-बाल बच गए। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि इस घटना की जांच कराई जाएगी। घटना तब हुई जब अमित शाह का काफिला बिदियाद गांव से परबतसर की ओर जा रहा था। काफिला एक गली से गुजर रहा था जिसके दोनों तरफ दुकानें और घर थे। 

इस यात्रा में शामिल लोगों ने बताया कि रथ का ऊपरी हिस्सा बिजली के तार की चपेट में आया जिसके बाद स्पार्किंग हुई। रथ गुजरने के बाद तार टूटकर सड़क पर जा गिरा। इससे रथ के पीछे की अन्य गाड़ियां तुरंत रुक गईं। इस घटना के बाद बिजली विभाग के अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गया। आनन-फानन में इलाके की बिजली काट दी गई। घटना का एक वीडियो भी वायरल हुआ है। 

हादसे के कारण काफिले में चल रहे लोग आवाक रह गए। इस घटना के बाद शाह (Union Home Minister Amit Shah) को दूसरे वाहन में परबतसर ले जाया गया। हालांकि शाह ने वहा एक रैली को भी संबोधित किया। शाह ने 25 नवंबर के होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी उम्मीदवारों के समर्थन में कुचामन, मकराना और नागौर के परबतसर में तीन रैलियों को संबोधित किया। इस घटना के बारे में सीएम अशोक गहलोत का बयान सामने आया है। मुख्यमंत्री ने जयपुर में पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा कि मामले की जांच के आदेश दिए जायेंगे।

केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को प्रदेश में नावां, मकराना, बिदियाद एवं परबतसर में भाजपा प्रत्याशियों के लिए चुनावी प्रचार में जनसभाओं को संबोधित किया। शाह ने अपने संबोधन में कांग्रेस सरकार पर भ्रष्टाचार एवं तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि यह राजस्थान की सबसे भ्रष्ट सरकार रही है। अब तो आलम यह है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लाल रंग देखकर ही भड़क जाते हैं। मुख्यमंत्री को हर जगह लाल डायरी नजर आती है। दिल्ली में सोनिया गांधी अपने बेटे राहुल गांधी को जबकि राजस्थान में गहलोत अपने बेटे वैभव गहलोत को लांच करने में ही लगे रहे जबकि पीएम मोदी ने चांद पर तिरंगा लहरा दिया। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें