ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानटूटे वचन पर कुर्सी बचाने की ठानी, राजस्थान कांग्रेस का किरोड़ी लाल पर तंज

टूटे वचन पर कुर्सी बचाने की ठानी, राजस्थान कांग्रेस का किरोड़ी लाल पर तंज

राजस्थान कांग्रेस ने किरोड़ी लाल पर तंज कसा है। एक्स पर लिखा- बाबा ने कहा रघुकुल रीत है मानी। टूटे वचन पर कुर्सी बचाने की ठानी। बता दें किरोड़ी लाल ने दौसा हारने पर इस्तीफा देने की घोषणा की थी।

टूटे वचन पर कुर्सी बचाने की ठानी, राजस्थान कांग्रेस का किरोड़ी लाल पर तंज
kirodi lal meena
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरThu, 13 Jun 2024 06:13 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान कांग्रेस ने किरोड़ी लाल पर तंज कसा है। एक्स पर लिखा- बाबा ने कहा रघुकुल रीत है मानी। टूटे वचन पर कुर्सी बचाने की ठानी। बता दें कैबिनेट मंत्री किरोड़ी लाल ने दौसा समेत 7 सीटों पर लोकसभा चुनाव में बीजेपी के हारने पर मंत्री पद से इस्तीफा देने का ऐलान किया था। लोकसभा चुनाव 4 जून को आ गए है। दौसा से बीजेपी को करीब 2 लाख से हार का सामना करना पड़ा है। लेकिन हार के बावजूद किरोड़ी लाल ने इस्तीफा नहीं दिया है। किरोड़ी लाल की चुप्पी पर राजस्थान कांग्रेस कमेटी ने तंज कसा है। 

उल्लेखनीय है कि दौसा में बीजेपी के हारने के बाद किरोड़ी लाल ने एक्स पर लिखा था- रघुकुल रीति सदा चली आई। प्राण जाई पर बचन नहीं जाई। माना जा रहा है कि राजस्थान कांग्रेस ने किरोड़ी लाल के बयान को लेकर ही निशाना साधा है। रिजल्ट आए हुए एक सप्ताह से ज्यादा का समय हो गया है। लेकिन किरोड़ी लाल ने मंत्री पद से इस्तीफा नहीं दिया है। कांग्रेस अब किरोड़ी के इस्तीफे को ही मुद्दा बनाकर बीजेपी को घेरने का प्रयास रही है। बता दें मंत्री किरोड़ी लाल के इस्तीफ पर यूडीएच मंत्री झाबर सिंह खर्रा ने कहा था कि किरोड़ी इस्तीफा नहीं देने के लिए मनाएंगे। 

राजनीतिक जानकारों का कहना है कि किरोड़ी लाल इस्तीफा देने का बयान देकर खुद फंस गए है। बताया जा रहा है कि पार्टी आलाकमान ने किरोड़ी लाल को इस्तीफा देने के लिए नहीं के निर्देश दिए है। पार्टी का मानना है कि इस मैसेज गलत जाएगा। इस्तीफ नहीं देना चाहिए। जबकि किरोड़ी लाल खुद इस्तीफा देने का एलान कर चुके है। सियासी जानकारों का कहना है कि किरोड़ी दुविधा में फंस गए है। बता दें इस बार राजस्थान से बीजेपी का करारी हार का सामना करना पड़ा है। बीजेपी से इंडिा गठबंधन ने 11 सीटें छीन ली है। पूर्वी राजस्थान में कांग्रेस ने 5 में से 4 लोकसभा सीटें जीत ली है। बता दें किरोड़ी लाल का प्रभाव पूर्वी राजस्थान में ही माना जाता है।