ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानRajasthan cabinet: राजस्थान मंत्रिमंडल से मोदी-शाह के पांच बड़े मैसेज, हर फैसला दिल्ली करेगी

Rajasthan cabinet: राजस्थान मंत्रिमंडल से मोदी-शाह के पांच बड़े मैसेज, हर फैसला दिल्ली करेगी

राजस्थान में भजनलाल शर्मा मंत्रिमंडल का विस्तार हो गए है। भजनलाल शर्मा की टीम में वसुंधरा राजे के सिर्फ तीन मंत्रियों को जगह मिली है।तपे-तपाए नेताओं को मौका नहीं। वहीं होगा जो दिल्ली करेगी।

Rajasthan cabinet: राजस्थान मंत्रिमंडल से मोदी-शाह के पांच बड़े मैसेज, हर फैसला दिल्ली करेगी
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSun, 31 Dec 2023 06:56 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में भजनलाल शर्मा मंत्रिमंडल का विस्तार हो गए है। भजनलाल शर्मा की टीम में वसुंधरा राजे के सिर्फ तीन मंत्रियों को जगह मिली है। पुराने तपे-तपाए नेताओं को मौका नहीं दिया है। सियासी जानकारों का कहना है कि मंत्रिमंडल विस्तार से साफ संदेश है कि राजस्थान में सीधा दिल्ली का दखल रहेगा। मुख्य सचिव से लेकर मंत्रियों की नियुक्ति दिल्ली से ही तय हो रही है। दिल्ली से एक फोन आता है। सबकुछ बदल जाता है। पार्टी के पुराने और वफादार नेताओं के लिए नई टीम में कोई जगह नहीं है। वसुंधरा कैबिनेट के दमदार नेता कालीचरण सराफ,प्रताप सिंघवी, अजय सिंह क्लिक, श्रीचंद कृपलानी, बाबूसिंह राठौड़ और देवी सिंह भाटी की अनदेखी की गई है।  देवीसिंह भाटी के पोते को सियाासी अदावत की वजह से ही मंत्री नहीं बनाया गया है। 

सबकुछ दिल्ली के इशारे पर ही होगा

सियासी जानकारों का कहना नई टीम दिल्ली से तैयार हुई है। ऐसे में सबकुछ दिल्ली के इशारे पर ही होगा। राजे कैबिनेट के सिर्फ तीन विधायकों को ही दोबारा मंत्री बनने का मौका मिला है। सियासी जानकारों का कहना है कि साफ है कि मंत्री बनने के लिए वरिष्ठ होना जरूरी नहीं है। राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे का शपथ ग्रहण समारोह में नहीं जाना चर्चा का विषय बना हुआ है। सियासी जानकार इसके अलग-अलग सियासी मायने निकाल रहे है। सियासी जानकारों का कहना है कि मंत्रिमंडल विस्तार में वसुंधरा राजे का कद घटाया गया है। राजे के समर्थकों को जगह नहीं मिली है। डीग-कुम्हेर से विधायक बने शैलेष सिंह को मंत्री नहीं बनाना चर्चा का विषय बना हुआ है। शैलेष सिंह वसुंधरा राजे के खास रहे पूर्व मंत्री स्वर्गीय दिगंबर सिंह के बेटे है। ऐसे में माना जा रहा है कि इसलिए ही उनको मंत्री नहीं बनाया गया है। जबकि सीएम भजनलाल शर्मा के गृह जिले भरतपुर से एकमात्र मंत्री जवाहर बेढ़म को बनाया गया है। 

17 नए चेहरों को मंत्री बनाया गया है

सियासी जानकारों का कहना है कि भजनलाल शर्मा कैबिनेट में 22 में कुल 17 नए चेहरों को मंत्री बनाया गया है। पुराने नेताओं की पूरी तरह से अनदेखी की गई है। ऐसे में साफ संदेश है कि वहीं होग जो दिल्ली चाहेगी। चर्चा है कि मंत्रियों की पूरी लिस्ट में अमित शाह की छाप है। अमित शाह के पंसद का विधायक ही मंत्री बना है। ऐसे में साफ संकेत है कि राजस्थान की सराकर दिल्ली से चलेगी। सियासी जानकारों का कहना है कि मंत्रिमंडल विस्तार में केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, अर्जुन मेघवाल और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की भी नहीं चली है। शेखावत अपने समर्थकों को मंत्री बनाने में सफल नहीं रहे है। सियासी जानकारों का कहना है कि फिलहला मंत्री रेस से बाहर होने वाले विधायक चुप है। लेकिन आने वाले दिनों में असंतोष के सुर तेज हो सकते है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें