ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानजेपी नड्डा ने राजनाथ सिंह को राजस्थान का पर्यवेक्षक क्यों बनाया? कहीं यह वजह तो नहीं है

जेपी नड्डा ने राजनाथ सिंह को राजस्थान का पर्यवेक्षक क्यों बनाया? कहीं यह वजह तो नहीं है

सियासी जानकारों का कहना है कि राजनाथ सिंह राजस्थान की राजनीति के मंझे खिलाड़ी है। जातीय समीकरण साधने में माहिर माने जाते हैं। वसुंधरा राजे- गजेंद्र सिंह शेखावत बेहद सम्मान करते है।

जेपी नड्डा ने राजनाथ सिंह को राजस्थान का पर्यवेक्षक क्यों बनाया? कहीं यह वजह तो नहीं है
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरFri, 08 Dec 2023 10:05 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में सीएम फेस को लेकर बीजेपी ने तीन पर्यवेक्षक नियुक्त किए है। राजनाथ सिंह, सरोज पांडे और विनोद तावड़े को भेजा है। माना जा रहा है कि 10 दिसंबर को विधायक दल की बैठक हो सकती है। लेकिन बड़ा सवाल यह है कि राजनाथ सिंह को राजस्थान क्यों भेजा गया है। सियासी जानकार इसके अलग-अलग मायने निकाल रहे है। कुछ लोगों का कहना है राजनाथ सिंह वसुंधरा कैंप और शेखावत कैंप को साध सकते है।

राजस्थान की सियासत के मंझे हुए खिलाड़ी माने जाते हैं

राजनाथ सिंह के अनुभव का लाभ पार्टी को मिल सकता है। जबकि कुछ का कहना है कि राजस्थान की सियासी परिस्थितियों को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है। विधायकों के गतिरोध को दूर कर सकते है। सियासी जानकारों का कहना है कि राजनाथ राजस्थान की सियासत के मंझे हुए खिलाड़ी माने जाते हैं। तीनों पर्यवेक्षकों में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह सबसे वरिष्ठ हैं। यूपी से आते हैं। जबकि सरोज पांडे छत्तीसगढ़ से आती हैं। विनोद तावड़े महाराष्ट्र बीजेपी के बड़े नेता माने जाते हैं। तीनों विधायकों से सीएम फेस को लेकर रायशुमारी करेंगे।

वसुंधरा राजे और शेखावत से मधुर संबंध 

राजस्थान के राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि राजनाथ सिंह की राजस्थान की राजनीति में गहरी पकड़ है। सीएम पद को दो प्रमुख दावेदार वसुंधरा राजे और गजेंद्र सिंह शेखावत राजनाथ सिंह से मधुर संबंध बताए जा रहे हैं। विधानसभा चुनाव के दौरान भी राजनाथ सिंह प्रचार करने के लिए आए थे। परिवर्तन यात्रा के दौरान राजनाथ सिंह ने वसुंधरा राजे के कार्यकाल की खुलकर तारीफ की थी। गजेंद्र सिंह शेखावत की राजनाथ सिंह का बेहद सम्मान करते हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि गतिरोध को दूर करने में राजनाथ सिंह तुरुप का पत्ता साबित हो सकते है। राजनाथ सिंह बीजेपी का सबसे सौम्या चेहरा माने जाते है। जबकि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे उस दौरान भी राजनाथ सिंह  वसुंधरा राजे को साधने में सफल रहे थे। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें