ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ राजस्थानसांसद किरोड़ी लाल और राजेंद्र राठौड़ के झगड़े से जेपी नड्डा नाराज, दोनों नेताओं पर चल सकता है अनुशासन का डंडा

सांसद किरोड़ी लाल और राजेंद्र राठौड़ के झगड़े से जेपी नड्डा नाराज, दोनों नेताओं पर चल सकता है अनुशासन का डंडा

राजस्थान में द्रौपदी मुर्मू के जयपुर आगमन पर सांसद किरोड़ी लाल मीना और उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ के बीच हुए विवाद से राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा नाराज है। जेपी नड्डा ने रिपोर्ट तलब की है।

सांसद किरोड़ी लाल और राजेंद्र राठौड़ के झगड़े से जेपी नड्डा नाराज, दोनों नेताओं पर चल सकता है अनुशासन का डंडा
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरThu, 14 Jul 2022 05:27 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान भाजपा में पार्टी नेताओं की खींचतान से पार्टी आलाकमान नाराज है। एनडीए की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के जयपुर आगमन पर सांसद किरोड़ी लाल मीना और उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ के बीच हुए विवाद से राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा नाराज है। जेपी नड्डा ने पूरे मामले की रिपोर्ट भाजपा प्रदेश इकाई से मांगी है। उल्लेखनीय है कि बुधवार को आदिवासी युवकों को एंट्री नहीं दिए जाने से सांसद किरोड़ी लाल नाराज हो गए और कार्यक्रम छोड़कर कर चले गए। इस दौरान राजेंद्र राठौड़ और किरोड़ी लाल के बीच जमकर हाॅट टाॅक हुई। केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के समझाने पर मामला शांत हुआ। दोनों नेताओं के बीच हुए झगड़े को पार्टी आलाकमान ने बेहद गंभीर माना है। हालांकि, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया ने पूरे मामले पर चुपी साध रखी है। सतीश पूनिया की प्रतिक्रिया नहीं आई है। 

भाजपा को गलत मैसेज जाने का डर 

पार्टी आलाकमान इस बाद से चिंतित है कि दोनों नेताओं के झगड़े का मैसेज गलत जा सकता है। किरोड़ी लाल जिन युवकों को एंट्री दिलवा रहे थे वे आदिवासी समाज से आते हैं। बताया जाता है कि डूंगरपुर और बांसवाड़ा के आदिवासी युवकों को कार्यक्रम में एंट्री नहीं दी जा रही थी। इसे लेकर किरोड़ी लाल अपनी ही पार्टी के विधायक राजेंद्र राठौड़ से भिड़ गए।  किरोड़ी लाल ने आरोप लगाया कि पार्टी का कोई कमिटेड वर्कर कार्यक्रम में शामिल नहीं हो रहा है। चापलूसों की भीड़ एकत्रित हो रही है। दरअसल, वहीं राष्ट्रपति चुनाव के लिए राजस्थान में बीजेपी ने उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ को इलेक्शन एजेंट की जिम्मेदारी दी गई है। राजेन्द्र राठौड़ को ही द्रौपदी मुर्मू के दौरे की सारी व्यवस्थाएं देख रहे हैं। राजस्थान में विधानसभा चुनाव 2023 के अंत में है। भाजपा का फोकस आदिवासी बेल्ट पर है। कुछ माह पहले जेपी नड्डा ने सवाई माधोपुर जिले में एसटी सम्मेलन को संबोधित किया था। इस सम्मेलन में सांसद किरोड़ी लाल भी मौजूद रहे थे। कांग्रेस ने भाजपा का आदिवासियों की अनदेखी करने का आरोप लगाया है। 

किरोड़ी ने ट्वीट कर दी सफाई 

सांसद किरोड़ी लाल ने ट्वीट कर लिखा- मैंने अपने आदिवासी भाई-बहनों की पीड़ा को राजेंद्र राठौड़ के सामने रखा। अपनों से अपनी बात नहीं कहता तो किससे कहता। कोई कितनी भी कोशिश सर ले। मेरे और मेरे राजेंद्र राठौड़ भाई के बीच किसी भी तरह का मतभेद नहीं है। मनभेद होने का तो प्रश्न ही पैदा नहीं होता। किरोड़ी लाल ने ट्वीट कर लिखा- एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के अभिनंदन के लिए डूंगरपुर- बांसवाड़ा व अन्य सुदूर इलाकों से जयपुर आए आदिवासी कार्यकर्ताओं को कार्यक्रम में प्रवेश नहीं मिला तो मेरे जैसे भावुक व्यक्ति को गुस्सा आना स्वाभाविक था। 
 

epaper