ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानराजस्थान बार एसोसिएशन चुनाव: एक ही दिन होंगे चुनाव, सुप्रीम कोर्ट का दखल से इंकार

राजस्थान बार एसोसिएशन चुनाव: एक ही दिन होंगे चुनाव, सुप्रीम कोर्ट का दखल से इंकार

राजस्थान में अब एक ही दिन सभी बार एसोसिएशन के चुनाव होंगे। राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश पर दखल देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार कर दिया। हाईकोर्ट ने एक ही दिन में चुनाव औऱ परिणाम घोषित के निर्देश दिए थे।

राजस्थान बार एसोसिएशन चुनाव: एक ही दिन होंगे चुनाव, सुप्रीम कोर्ट का दखल से इंकार
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरTue, 28 Nov 2023 01:30 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में अब एक ही दिन सभी बार एसोसिएशन के चुनाव होंगे। राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश पर दखल देने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार कर दिया है। हाईकोर्ट ने सभी बार को एक ही दिन में चुनाव औऱ परिणाम घोषित करने के निर्देश दिए थे। देश की शीर्ष अदालत ने हाईकोर्ट के आदेश पर दखल देने से इंकार कर दिया है। जस्टिश बीआर गवई औऱ प्रशांत कुमार मिश्रा की खंडपीठ ने यह आदेश दिया है।

अर्जी दाखिल करने की अनुमति दी

 हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाकर्ता राजस्थान हाईकोर्ट  एडवोकेट बार एसोसिएशन जोधपुर, अजमेर और टोंक को हाईकोर्ट के आदेश में बदलाव के लिए हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल करने की अनुमति दी है। तीन बार का सुप्रीम कोर्ट में कहना था- उनका कार्यकाल संविधान के मुताबिक एक या दो वर्ष में पूरा होना है। ऐसे में उनका चुनाव ना कराया जाए। राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। याचिकाकर्ताओं की ओर से वकील अजय सिंह ने पैरवी की 
राजस्थान हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस न्यायाधीश एजी मसीह की डिविजनल बेंच ने मामले पर सुनवाई करते हुए यह फैसला किया था। सुनवाई में बार कांउसिल ऑफ राजस्थान से पूछा गया कि क्या BCR प्रदेश की सभी बार एसोसिएशन में एक ही दिन तय कर चुनाव कराने की मंशा रखती है।इस पर बार काउंसिल ऑफ राजस्थान के एडवोकेट प्रतीक कासलीवाल ने कोर्ट को बताया कि साल 2013 में नियम भी बनाए गए थे। जिसे लेकर बार एसोसिएशन ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। वर्ष 2017 में हाईकोर्ट ने बीसीआर के नियम रद्द कर दिए थे।

उन्होंने बताया कि सभी बार एसोसिएशन के संविधान अलग अलग हैं। ऐसे में बीसीआर के नियम उन सभी  पर थोपे नहीं जा सकते हैं। उन्होंने हाईकोर्ट से ही आग्रह किया कि वे ही इस पर कोई फैसला करें। दी बार एसोसिएशन ऑफ जयपुर के चुनाव भी 28 अगस्त को होने थे। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार ये चुनाव एक बोर्ड, एक बार के नियम के तहत कराए जा रहे थे। नियमों के तहत एक वकील एक बार में ही वोट कर सकता है, यानी किसी वकील ने किसी एक बार में वोट कास्ट किया है, तो वह दूसरी बार में वोटिंग नहीं कर सकता है। हाईकोर्ट ने इसके समाधान के लिए अब बार एसोसिएशन के चुनाव एक तारीख को ही कराने का फैसला किया।  राजस्थान में 250 बार एसोसिएशन रजिस्टर्ड हैं। इसमें हाईकोर्ट, सेशन कोर्ट, आयोगों की बार समेत अन्य हैं। कुल 1 लाख 4 हजार के करीब एकवोकेट्स बीसीआर में रजिस्टर्ड है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें