ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानमतदान से पहले एक मंच पर पीएम मोदी और वसुंधरा राजे, अटकलों का दौर, क्या संदेश?

मतदान से पहले एक मंच पर पीएम मोदी और वसुंधरा राजे, अटकलों का दौर, क्या संदेश?

प्रधानमंत्री मोदी और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे मंगलवार को राजस्थान में विधानसभा चुनाव के प्रचार अभियान के अंतिम दौर से ठीक पहले एक मंच पर नजर आए। इससे अटकलों का बाजार गर्म हो गया है।

मतदान से पहले एक मंच पर पीएम मोदी और वसुंधरा राजे, अटकलों का दौर, क्या संदेश?
Krishna Singhभाषा,जयपुरTue, 21 Nov 2023 11:55 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के प्रचार अभियान के अंतिम दौर से ठीक पहले प्रधानमंत्री मोदी और पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) मंगलवार को एक मंच पर नजर आए। इसके बाद सियासी गलियारों में अटकलों का दौर शुरू हो गया। चर्चा होने लगी कि वसुंधरा राजे और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के बीच सब ठीक-ठाक है। राजनीतिक जानकार मान रहे हैं कि मतदान से ठीक पहले इस चुनावी सभा के जरिए भाजपा की ओर से मतदाताओं को 'संदेश' देने की कोशिश की गई है। 

निकाले जा रहे कई मायने
मालूम हो कि राज्य में चुनाव प्रचार का शोर दो दिन बाद थम जाएगा। सूबे में 25 नवंबर मतदान होना है। ऐसे में जब भाजपा ने इस चुनाव में किसी को भी मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। मतदान से कुछ ही दिन पहले पीएम मोदी और वसुंधरा राजे के एक मंच पर आने और इसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर जमकर साझा किए जाने के कई निहितार्थ निकाले जा रहे हैं। 

भाजपा ने नहीं घोषित किया था चेहरा
खुद प्रधानमंत्री मोदी राज्य में अपने शुरुआती चुनावी भाषणों में कह चुके हैं कि इस चुनाव में भाजपा का चेहरा 'कमल का फूल' है। पीएम मोदी ने अक्टूबर महीने में चितौड़गढ़ जिले में हुई एक रैली में यह बात कही थी। वसुंधरा राजे भी मौजूद थीं। राजे के समर्थक वसुंधरा को सीएम पद की दौड़ में सबसे आगे मानते हैं जबकि सत्तारूढ़ कांग्रेस चुनाव में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं करने को लेकर भाजपा पर निशाना साधती रही है। कांग्रेस इसे राज्य में भाजपा की अंदरूनी खींचतान बताती रही है।

कांग्रेस बता रही बिखरी हुई पार्टी
हालांकि इस बारे में कुछ भी सार्वजनिक टिप्पणी करने से राजे बचती रही हैं। कांग्रेस की नेता प्रियंका गांधी ने हाल में अपनी सभाओं में भाजपा को पूरी तरह बिखरी हुई पार्टी बताते हुए दावा किया था कि इसमें सारे बड़े नेताओं को किनारे कर दिया गया है। जानकारों के अनुसार, मोदी और राजे ने शायद इसी को लेकर संदेश देने की कोशिश की है। हालांकि पार्टी के एक प्रवक्ता ने इस बारे में टिप्पणी से इनकार किया।

प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ
राजे ने मंच से न केवल मोदी की मुक्त कंठ से प्रशंसा की बल्कि यहां तक कहा कि देश की जनता 2024 में सत्ता की हैट्रिक लगाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का बेसब्री से इंतजार कर रही है। अगले साल लोकसभा के चुनाव होने हैं। दरअसल, मोदी ने मंगलवार को राजस्थान में अपने धुआंधार चुनावी दौरे की शुरुआत अंता (बारां) में चुनावी सभा से की। हाडोती इलाके में इस सभा के दौरान मंच पर राज्य के बड़े नेताओं में केवल राजे थीं। इसके अलावा उनके बेटे व सांसद दुष्यंत सिंह और पार्टी के स्थानीय प्रत्याशी थे।

मोदी और राजे ही बड़े चेहरे
हाल के दौर में इस तरह का पहला मौका था जब मंच पर मोदी का फूलों की बड़ी माला से स्वागत किया गया तो फ्रेम में दो बड़े चेहरे मोदी और राजे के ही थे। मंच पर मोदी के एक ओर राजे जबकि दूसरी ओर दुष्यंत बैठे थे। मोदी इन दोनों से संवाद करते भी नजर आए। अपने संबोधन में वसुंधरा राजे ने कहा कि मोदी का लोहा पूरा देश मानता है। आज पूरा विश्व उनका नेतृत्व स्वीकारता है। लोकसभा चुनावों की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा- देश की जनता 2024 में हैट्रिक के लिए मोदी जी का बेसब्री से इंतजार कर रही है। 

गहलोत सरकार की योजनाएं सिर्फ अखबारों में
वसुंधरा राजे ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की योजनाओं के माध्यम से लोगों को संबल मिला है। इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस नेता एवं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर जमकर हमला बोला। राजे ने कहा कि कांग्रेस नेतृत्व वाली सरकार की योजनाएं सिर्फ अखबारों में हैं। वहीं अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने सभा में उमड़ी भीड़ के बारे में दुष्यंत सिंह से हुई चर्चा का जिक्र किया और कहा कि यह जनसमूह दिखाता है कि हाडोती के मन में राजस्थान में परिवर्तन की भावना कितनी प्रचंड है।