ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानMaharana Pratap Jayanti 2024: महाराणा प्रताप ने संघर्ष की प्रेरणा दी, बोले राज्यवर्धन सिंह राठौड़

Maharana Pratap Jayanti 2024: महाराणा प्रताप ने संघर्ष की प्रेरणा दी, बोले राज्यवर्धन सिंह राठौड़

राजस्थान के कैबिनेट मंत्री कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि महाराणा का जीवन, उनका संघर्ष व उनके संकल्प ने पूरे देश को स्वाधीनता और स्वाभिमान के लिए संघर्ष की प्रेरणा दी है। हमें सीख लेनी चाहिए।

Maharana Pratap Jayanti 2024: महाराणा प्रताप ने संघर्ष की प्रेरणा दी, बोले राज्यवर्धन सिंह राठौड़
rajavardhn
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSun, 09 Jun 2024 10:03 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के कैबिनेट मंत्री कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि महाराणा का जीवन, उनका संघर्ष व उनके संकल्प ने पूरे देश को स्वाधीनता और स्वाभिमान के लिए संघर्ष की प्रेरणा दी है।महाराणा प्रताप जयंती पर महाराणा प्रताप समारोह समिति की ओर से आयोजित समारोह में बतौर मुख्य अतिथि राठौड़ ने कहा कि आज का यह अवसर विशिष्ट है। आज हम भारतीय शौर्य और वीरता के पर्याय रहे एक महान नायक को याद कर रहे हैं। महाराणा ने हमारे लोक संस्कार में गौरव के जो बीज डाले, वह आज पूरे देश के लोकमानस में सामाजिक-सांस्कृतिक बोध और संस्कार के रूप में दिखाई देते हैं।
ऐसे महान वीरों के प्रति कृतज्ञता का भाव सही मायनों में हमारी ऊर्जा का स्रोत है। 

विजयी होने की महान प्रेरणा मिलती है

राठौड़ ने कहा कि ऐसे महावीरों से हमें देश और समाज के लिए संघर्ष करने और विजयी होने की महान प्रेरणा मिलती है। हमें आगे बढ़ने का साहस मिलता है। हमें विपरीत स्थितियों में अपने मूल्य और आदर्श की रक्षा करने की शक्ति मिलती है। हम हर परिस्थिति में निर्भीक बने रहते हैं। राठौड़ ने कहा कि महाराणा की प्रेरक स्मृति और उनकी अदम्य वीरता के वर्णन के साथ जब हम इतिहास की तरफ लौटते हैं तो हम इस बात को समझ पाते हैं कि हमारे नायकों की यशस्विता, उनकी स्मृति कैसे शताब्दियों बाद भी जीवित है।राठौड़ ने कहा कि सैकड़ों वर्षों से महाराणा प्रताप अगर हमारे लिए लगातार श्रद्धेय बने हुए हैं, उनकी वीरता और साहस के प्रति हम सम्मान का भाव रखते हैं तो यह कोई साधारण बात नहीं है।

युवा पीढ़ी को बता रहे असली इतिहास : बनवासा 

कार्यक्रम संयोजक प्रेम सिंह बनवासा ने बताया कि 13 वर्षों से महाराणा प्रताप जयंती पर इस समारोह का आयोजन किया जा रहा है। समारोह का उद्देश्य युवा पीढ़ी को महाराणा प्रताप के सिद्धांतों से परिचित कराना है। असली इतिहास बताना है, क्योंकि आजादी के बाद पाठ्यपुस्तकों में महाराणा प्रताप को नहीं, बल्कि अकबर को महान बताया जा रहा है। हमें इस पाठ्यक्रम को भी बदलना है।  समारोह को श्री क्षत्रिय युवक संघ के केंद्रीय कार्यकारी गजेंद्र सिंह आऊ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी संजीव भार्गव, टोंक के पूर्व जिला प्रमुख सत्यनारायण चौधरी, राजपूत सभा के अध्यक्ष राम सिंह चंदलाई ने भी संबोधित किया। राष्ट्रवादी कवि उमेश उत्साई ने काव्य पाठ किया।