ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानहम गरीब-पिछड़ों को देंगे 16 लाख करोड़, राजस्थान में मोदी पर हमलावर हुए राहुल गांधी

हम गरीब-पिछड़ों को देंगे 16 लाख करोड़, राजस्थान में मोदी पर हमलावर हुए राहुल गांधी

राजस्थान के पहले चुनावी दौरे पर आए राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर निशाना साधा। कहां- मोदी ने अपने 15-20 उद्योगपति मित्रों के 16 लाख करोड़ के कर्ज को माफ कर दिया। हम गरीब-पिछड़ों को देंगे 16 लाख करोड़।

हम गरीब-पिछड़ों को देंगे 16 लाख करोड़, राजस्थान में मोदी पर हमलावर हुए राहुल गांधी
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरThu, 11 Apr 2024 06:12 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के पहले चुनावी दौरे पर आए राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा। राहुल गांधी ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने अपने 15-20 उद्योगपति मित्रों के 16 लाख करोड़ के कर्ज को माफ कर दिया। यह सरकार सिर्फ अरबपतियों का कर्जा माफ करती है। किसानों-मजदूरों का कर्जा माफ नहीं करती है। हिंदुस्तान की 200 सबसे बड़ी कंपनियों के मालिक और सीनियर मैनेजमेंट में पिछड़े वर्ग के लोग नहीं हैं। हिंदुस्तान के 25-30 अमीर लोगों का इतना पैसा माफ कर दिया, जितना 24 साल तक मनरेगा के जरिए मजदूरों को मिलता। राहुल गांधी ने कहा कि जितना पैसा मोदी ने अरबपतियों को दिया है, उतना हम गरीब-पिछड़ों को देंगे। बीकानेर से कांग्रेस प्रत्याशी गोविंद राम मेघवाल और श्रीगंगानगर से पार्टी प्रत्याशी कुलदीप इंदौरा के समर्थन में उन्होंने यहां जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने केंद्र की मोदी सरकार व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। 

इलेक्टोरल बॉन्ड से दबाव डालकर, हफ्तावसूली 

राहुल गांधी ने कहा कि देश की 50 फीसदी आबादी पिछड़े वर्ग की है, लेकिन उनका एक रुपए का भी कर्जा माफ नहीं किया जाताय़ किसान का बेटे अगर शिक्षा के लिए लोन लेता है तो उसका लोन माफ नहीं होता है। केंद्र में हमारी सरकार आई तो जितना नरेंद्र मोदी ने अपने 15-20 मित्रों का कर्जा माफ किया है। उतना हम गरीबों के लिए खर्च करेंगे. जितना मोदी ने अपने मित्रों को दिया है। उतना हम गरीबों को देंगे। उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधा और कहा कि वे कहते हैं मैं पिछड़े वर्ग का हूं। अगर आप पिछड़े वर्ग के हैं तो हिंदुस्तान की सबसे बड़ी कंपनियों का मालिक या मैनेजमेंट में कोई पिछड़े वर्ग का क्यों नहीं है।  राहुल गांधी ने कहा कि यह चुनाव संविधान और लोकतंत्र को बचाने का चुनाव है। यह चुनाव 90 फीसदी पिछड़ों, दलित, आदिवासी, अल्पसंख्यकों और सामान्य वर्ग के गरीबों का चुनाव है। एक तरफ अडानी और देश के बड़े-बड़े अरबपति हैं। पूरा धन उनके हाथ में है। कांग्रेस पार्टी के बैंक खाते बंद कर दिए गए हैं। इलेक्टोरल बॉन्ड से दबाव डालकर, हफ्तावसूली कर बड़े-बड़े उद्योगपतियों से पैसा लिए गए। यह चुनाव गरीब और 20-25 अरबपतियों के बीच का चुनाव है। 

90 आईएएस अधिकारी देश को चलाते हैं

राहुल गांधी ने कहा कि दिल्ली में बैठकर 90 आईएएस अधिकारी देश को चलाते हैं। उनमें से पिछड़े वर्ग के महज तीन नाम हैं। अगर 100 रुपए का बजट होता है तो पिछड़े वर्ग के अफसर पांच प्रतिशत का निर्णय लेते हैं और दलित आबादी 15 फीसदी है। जबकि एक फीसदी का निर्णय दलित अफसर लेता है और 100 रुपए में से 10 पैसे का फैसला दलित अफसर लेता है। यह कौन सी पिछड़ों की सरकार है। राहुल गांधी ने कहा कि जब हमारी सरकार ने मनरेगा की योजना शुरू की तो कहा गया कि यूपीए सरकार मजदूरों की आदत बिगाड़ रही है। उन्हें आलसी बना रही है, लेकिन जब अरबपतियों का कर्ज माफ होता है तो उनकी आदत नहीं बिगड़ी और वे आलसी नहीं होते।

कोई नहीं जानता कि देश में पिछड़ों की कितनी आबादी है

राहुल गांधी ने कहा कि आज कोई नहीं जानता कि देश में पिछड़ों की कितनी आबादी है। दलित, आदिवासियों, अल्पसंख्यकों और सामान्य वर्ग के गरीबों की कितनी आबादी है। हमारा पहला काम इलेक्टोरल बॉन्ड से दबाव डालकर, हफ्तावसूली  और आर्थिक सर्वेक्षण करवाना है। इससे हम पता लगाएंगे कि पिछड़े वर्ग के कितने लोग हैं। राहुल गांधी ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी सरकार बनने पर हिंदुस्तान के हर गरीब परिवार की महिलाओं के बैंक खाते में एक लाख रुपए सालाना दिए जाएंगे और यह राशि उन्हें तब तक मिलती रहेगी। जब तक वह परिवार गरीबी रेखा से बाहर नहीं आ जाता है। राहुल गांधी बोले, नरेंद्र मोदी ने किसानों से साफ कह दिया है कि आपका कर्जा माफ नहीं होगा।  

राहुल गांधी ने कहा कि आज राजस्थान सहित देश के हर प्रदेश से युवा सेना में जाना चाहते हैं। सेना गारंटी देती थी कि अगर आपको कुछ हुआ तो सरकार उनके परिवारों का ध्यान रखेगी। बलिदानी सैनिकों को शहीद का दर्जा और परिवार को पेंशन मिलेगी। नरेंद्र मोदी ने अग्निपथ योजना लाकर यह वादा भी तोड़ा है। उन्होंने कहा कि यह योजना आर्मी नहीं लाई है। सेना ने इस योजना की मांग नहीं की है। यह योजना पीएम कार्यालय से लागू की गई है। जैसे ही हमारी सरकार आएगी। अग्निपथ योजना को बंद कर सेना में पहले की तरह नियमित भर्ती की जाएगी।