ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानLok Sabha Elections : पहले चरण में केंद्रीय नेता दूर रहे, गहलोत-पायलट ने संभाली प्रचार की कमान

Lok Sabha Elections : पहले चरण में केंद्रीय नेता दूर रहे, गहलोत-पायलट ने संभाली प्रचार की कमान

राजस्थान में पहले चरण के तहत प्रदेश की 12 लोकसभा सीटों के लिए कल 19 अप्रैल को मतदान होगा। भाजपा और कांग्रेस के स्टार प्रचारकों ने पूरी ताकत लगाई। गहलोत-पायलट ने कांग्रेस की कमान संभाली।

Lok Sabha Elections : पहले चरण में केंद्रीय नेता दूर रहे, गहलोत-पायलट ने संभाली प्रचार की कमान
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरThu, 18 Apr 2024 09:07 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में पहले चरण के तहत प्रदेश की 12 लोकसभा सीटों के लिए कल 19 अप्रैल को मतदान होगा। भाजपा और कांग्रेस के स्थानीय स्टार प्रचारकों ने अंतिम दिन प्रचार में पूरी ताकत लगाई। लेकिन, दोनों ही दलों में अन्य राज्यों के कई ऐसे भी स्टार प्रचारक रहे, जिनकी राजस्थान से दूरी बनी रही। ये 24 स्टार प्रचारक प्रचार के लिए नहीं आए। इनमें बड़े नेता भी है, जिनकी कई लोकसभा क्षेत्रों में मांग रही। कांग्रेस में गहलोत और पायलट ने ही प्रचार की कमान संभाली। राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे और सोनिा गांधी के अलाव कांग्रेस का कोई भी स्टार प्रचारक राजस्थान नहीं आय़ा। जातिगत समीकरणों के लिहाज से प्रदेश संगठनों ने इनमें से कई स्टार प्रचारकों की जरूरत भी जताई, लेकिन इनके दौरे तय नहीं हो पाए। इनमें कांग्रेस के 14 और भाजपा के 10 केंद्रीय स्टार प्रचारक शामिल है। इनके अलावा प्रदेश के भी कई स्टार प्रचारक प्रत्याशी हैं, जो अपनी सीट से ही नहीं निकल पाए। इनमें भाजपा के छह और कांग्रेस का एक स्टार प्रचारक है।

धन की कमी भी वजह हो सकती है

कांग्रेस के केंद्रीय नेता राजस्थान में प्रचार से दूर रहे। इसके पीछे बड़ी वजह धन की कमी बताया जा रहा है। कांग्रेस का आरोप है कि चुनाव से पहले मोदी सरकार ने पार्टी के खाते फ्रीज कर दिए। इस वजह से पार्टी के पास धन की कमी है। केंद्रीय नेताओं को राज्यों में भेजने लायक भी पैसा पार्टी के पास नहीं है। ऐसे में पार्टी के स्टार प्रचारक राजस्थान से दूर रहे। हालांकि, स्टार प्रचारकों की सूची में गहलोत-पायलट पर ही पार्टी ने ज्यादा भरोसा जताया। राजस्थान में कांग्रेस का प्रचार इन दोनों नेताओं के इर्द-गिर्द रहा है। 

भाजपा के 10 केन्द्रीय स्टार प्रचारक नहीं आए

केन्द्रीय मंत्री नीतिन गड़करी, गुजरात के सीएम भूपेन्द्र पटेल, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे, देवेन्द्र फडणवीस, केशव प्रसाद मौर्य, संजीव बालियान, कृष्णपाल सिंह गुर्जर, मनोज तिवारी, पुरुषोत्तम रूपाला पहले चरण के प्रचार में नहीं आए। भाजपा के प्रदेश संगठन के अनुसार स्टार प्रचारकों के दौरे केन्द्रीय नेतृत्व स्तर पर तय होते हैं। जो स्टार प्रचारक अभी तक नहीं आए, वे दूसरे चरण में प्रचार करेंगे। वहीं, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे.पी. नड्डा भी केवल एक बार राजस्थान आए। वे प्रत्याशी दुष्यंत सिंह की सभा में शामिल हुए थे।

कांग्रेस के इन स्टार प्रचारकों की नहीं हुई एक भी सभा

कांग्रेस के जिन स्टार प्रचारकों की प्रदेश में एक भी सभा नहीं हो पाई है। उनमें रजनी पाटिल, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, मुकुल वासनिक, सुखविंदर सिंह सुक्खू, रणदीप सिंह सुरजेवाला, प्रमोद तिवारी, चरणजीत सिंह चन्नी, दीपेंद्र सिंह हुड्डा, इमरान प्रतापगढ़ी, कन्हैया कुमार, पवन खेड़ा, अलका लांबा, बीवी श्री निवास और वरुण चौधरी हैं।
विधानसभा चुनाव में शेखावाटी अंचल के सीकर और झुंझुनूं में कांग्रेस के सर्वाधिक विधायक जीतकर आए। इन लोकसभा सीटों में कांग्रेस के 16 विधायक हैं, इसके बावजूद यहां कहीं भी किसी केंद्रीय स्टार के दौरे नहीं हुए। कांग्रेस के केंद्रीय स्टार प्रचारकों में सर्वाधिक सभाएं और रोड शो प्रियंका गांधी के हुए हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे दो, राहुल गांधी दो, जिग्नेश मेवाणी तीन, सोनिया गांधी और दीपेंद्र हुड्डा एक-एक जनसभा कर चुके हैं।