ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानराजस्थान में सबसे गर्म रहा पिलानी, 48 के पार पहुंचा पारा; मौसम विभाग ने बताया कब मिलेगी राहत?

राजस्थान में सबसे गर्म रहा पिलानी, 48 के पार पहुंचा पारा; मौसम विभाग ने बताया कब मिलेगी राहत?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शांति धारीवाल ने बुधवार को आरोप लगाया कि राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए भीषण गर्मी और तापघात से लोगों की मौतों का आंकड़ा छुपा रहे हैं।

राजस्थान में सबसे गर्म रहा पिलानी, 48 के पार पहुंचा पारा; मौसम विभाग ने बताया कब मिलेगी राहत?
Sourabh Jainभाषा,जयपुरWed, 29 May 2024 09:13 PM
ऐप पर पढ़ें

बीते कई दिनों से लगभग समूचा राजस्थान भीषण गर्मी की चपेट में है और यही दौर बुधवार को भी जारी रहा। इस दौरान पिलानी में सबसे अधिक 48.2 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। हालांकि मौसम विज्ञान विभाग (IMD) का कहना है कि बीते चौबीस घंटे में कई जगह पर अधिकतम तापमान में 1 से 3 डिग्री सेल्सियस की कमी आई है। वहीं विभाग की मानें तो 31 मई से लू की तीव्रता में कमी होने की संभावना है।

प्रदेश के प्रमुख शहरों में बुधवार को दर्ज किए गए अधिकतम तापमान की बात करें तो पिलानी में 48.2 डिग्री, चुरू में 47.7 डिग्री, अलवर में 47.5 डिग्री, वनस्थली में 47.2 डिग्री, फलोदी में 47.0 डिग्री, गंगानगर में 46.9 डिग्री व राजधानी जयपुर में 46.0 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। 

1 जून से मिलेगी राहत

मौसम केंद्र जयपुर के अनुसार राज्य में 31 मई से दो जून तक जयपुर, बीकानेर, भरतपुर संभाग के कुछ भागों में आंधी बारिश की संभावना है। राज्य में 1 जून से भीषण गर्मी से राहत मिलेगी और अधिकांश भागों में अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से नीचे आएगा।

गुरुवार को इन शहरों के लिए ओरेंज अलर्ट

30 मई के लिए मौसम के पूर्वानुमान की बात करें तो प्रदेश के जैसलमेर, बीकानेर, अनूपगढ़, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, चुरू और झुंझुनूं में ओरेंज अलर्ट जारी किया गया है, जिससे कि यहां हीट वेव चलने की उम्मीद है। वहीं फलौदी, जोधपुर, सीकर, अलवर, दौसा, भरतपुर, करौली और धौलपुर के लिए यलो अलर्ट जारी किया गया है। यहां कम तीव्रता के साथ हीट वेव चल सकती है। इसके अलावा अन्य हिस्सों के लिए कोई चेतावनी नहीं दी गई है। 

आने वाले दिनों के मौसम की जानकारी देते हुए मौसम विज्ञान केंद्र जयपुर के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने जानकारी देते हुए कहा, '31 मई तो एक नया पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा, इसके प्रभाव से राजस्थान के जो उत्तरी भाग हैं, खासकर जो पंजाब व हरियाणा से लगे हुए इन हिस्सों में दोपहर बाद आंधी व बारिश की संभावना है, साथ ही तापमान में कुछ गिरावट होगी। 1 और 2 जून को भी प्रदेश के उत्तरी  भागों में आंधी बारिश की गतिविधियां जारी रहेगी। ऐसे में प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में लू से राहत मिलेगी और अधिकतम तापमान 45 डिग्री से नीचे चला जाएगा।'
 

चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग ने भी की तैयारी

इस बीच चिकित्सा व स्वास्थ्य विभाग ने भीषण गर्मी को देखते हुए अस्पतालों में आवश्यक प्रबंध सुनिश्चित करने के लिए राज्य स्तर से सभी जिलों के लिए प्रभारी अधिकारी नियुक्त किए हैं। इन सभी अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से आवंटित जिलों में दौरा करने के निर्देश दिए हैं।

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव शुभ्रा सिंह ने बताया कि ये सभी प्रभारी अधिकारी अपने-अपने जिलों में संबंधित प्रभारी सचिव से समन्वय स्थापित कर गर्मी के प्रबंधन को लेकर आ रही खामियों का मौके पर ही समाधान कर रिपोर्ट देंगे। 

पूर्व मंत्री ने लगाया आंकड़ा छुपाने का आरोप

वहीं राजस्थान के पूर्व नगरीय विकास एवं स्वायत्त शासन मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक शांति धारीवाल ने बुधवार को आरोप लगाया कि राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए भीषण गर्मी और तापघात से लोगों की मौतों का आंकड़ा छुपा रहे हैं। धारीवाल ने दावा किया कि अकेले कोटा शहर में 28 लावारिस शव बरामद किए गए हैं। पूरे जिले में तो मौतों का यह आंकड़ा कहीं अधिक होगा, लेकिन राजस्थान सरकार, यहां तक कि प्रशासन भी भीषण गर्मी और तापघात से मौते होने का आंकड़ा छुपा रही है।