ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News राजस्थानराजस्थान में किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया, मोदी के कार्यक्रम का विरोध

राजस्थान में किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया, मोदी के कार्यक्रम का विरोध

राजस्थान के हनुमानगढ़ में पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया। इससे एक किसान को सिर फूट गया है। किसानों ने पीएम मोदी के वर्चुअल कार्यक्रम में विरोध करने के लिए बैरिकेडिंग तोड़ दी। जमकर प्रदर्शन।

राजस्थान में किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया, मोदी के कार्यक्रम का विरोध
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरFri, 16 Feb 2024 07:12 PM
ऐप पर पढ़ें

Kisan Andolan News:राजस्थान के हनुमानगढ़ में पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज किया। इससे एक किसान को सिर फूट गया है। दरअसल, न्यूनतम समर्थन मूल्य गारंटी कानून बनाने सहित विभिन्न मांगों को लेकर किसानों का आज दिल्ली में महापड़ाव है। वहीं, किसानों ने आज ग्रामीण भारत बंद भी बुलाया है। हनुमानगढ़ में बंद के दौरान किसानों ने पीएम मोदी के वर्चुअल कार्यक्रम में विरोध करने के लिए बैरिकेडिंग तोड़ दी। किसानों को रोकने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया, इससे एक किसान का सिर फूट गया।हनुमानगढ़ जंक्शन में आयोजित प्रधानमंत्री मोदी के वर्चुअल संवाद कार्यक्रम स्थल के बाहर आज सुबह किसानों और पुलिस के बीच हुई झड़प में घायल एक किसान का जिला चिकित्सालय में उपचार चल रहा है। झड़प में डीएसपी हनुमानगढ़ अरविंद बेरड़ के पैर में भी चोट आई है।

आज सुबह किसानों ने रैली के दौरान कार्यक्रम स्थल के पास ट्रैक्टरों से बैरिकेट्स तोड़ दिए थे। जिसके बाद हुई झड़प में पुलिस ने हल्का लाठी चार्ज किया था जिसमें एक किसान के सिर में चोट आई है। पुलिस घायल डीएसपी अरविंद बेरड़ का मेडिकल करवा रही है। घटना के बाद पुलिस अधीक्षक राजीव पचार मौके पर पहुंचे और उन्होंने घटना की जानकारी ली। एसपी ने लाठीचार्ज की घटना से इंकार किया और कहा कि किसान रूट बदलकर कार्यक्रम स्थल के पास पहुंचे थे जिससे विवाद हुआ वहीं किसानों का कहना है कि पुलिस ने लाठी चार्ज किया।

डीडवाना में दिखा असर
दिल्ली किसान आंदोलन के तहत डीडवाना में एक बार फिर किसान अपनी विभिन्न मांगों को लेकर आंदोलनरत हो गए। इसको लेकर शुक्रवार को किसानों की ओर से भारत बंद का आह्वान किया गया। इस बंद के तहत आज डीडवाना कस्बा संपूर्ण रूप से बंद नजर आया। बता दें कि इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर तमाम तरह के व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखे गए। इसको लेकर संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्यों ने व्यापारियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि आपने किसानों की मांगों को उचित समझा है और उनके समर्थन में अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखे हैं। जानकारी के मुताबिक जिले में कुछ जगहों पर बसों का संचालन पूरी तरह से बंद है। सादुलशहर संगरिया श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़-अबोहर मार्ग पर बसें नहीं चल रही है, जिससे यात्रियों को भारी परेशानी हो रही है।

पंजाब-हरियाणा के तीन में से दो बॉर्डर सील

श्रीगंगानगर जिले के पंजाब के साथ लगते हिंदुमलकोट और साधुवाली बॉर्डर को आज चौथे दिन भी सील रखा गया है, लेकिन पतली बॉर्डर को आवागमन के लिए खुला रखा गया है। पंजाब आने और जाने वाले सारे ट्रैफिक को इसी बॉर्डर से डायवर्ट किया गया है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि इस रास्ते से आने जाने वाले हर वाहन को कड़ी चेकिंग के बाद अनुमति दी जा रही है। किसानों का बड़ा मूवमेंट हुआ तो इस रास्ते को भी बंद कर दिया जाएगा। सभी चेक पोस्ट पर लोहे और सीमेंट के बैरिकेडिंग लगाए गए हैं। साथ ही पुलिस, आरएसी और एसटीएफ के जवान तैनात हैं।

जीकेएस के प्रवक्ता संतवीर सिंह का कहना है कि शुक्रवार को जिले भर में किसान संगठन विरोध प्रदर्शन करेंगे। सभी एसडीएम ऑफिस पर किसान धरना देंगे। जिले के अधिकतर किसान पंजाब गए हुए हैं। ऐसे में चक्का जाम नहीं किया गया है, लेकिन विरोध प्रदर्शन के माध्यम से अपना रोष व्यक्त किया जाएगा। जिला मुख्यालय सहित सादुलशहर, करणपुर, पदमपुर, सूरतगढ़ सहित अनूपगढ़ जिले में भी आज किसान धरना प्रदर्शन करेंगे।


 

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें