ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानआसाराम की देर रात फिर बिगड़ी तबीयत, एम्स में भर्ती; सीने में दर्द की शिकायत

आसाराम की देर रात फिर बिगड़ी तबीयत, एम्स में भर्ती; सीने में दर्द की शिकायत

राजस्थान में नाबालिग से यौन शोषण के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे आसाराम की देर रात जोधपुर एम्स में एडमिट किया गया। उन्हें सीने में दर्द की शिकायत पर भर्ती किया गया। कई दिनों से अस्वस्थ थे।

आसाराम की देर रात फिर बिगड़ी तबीयत, एम्स में भर्ती; सीने में दर्द की शिकायत
Asaram gets life term for rape of teen at Jodhpur ashram breaks down
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरFri, 21 Jun 2024 01:40 PM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान में नाबालिग से यौन शोषण के मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे आसाराम की देर रात जोधपुर एम्स में एडमिट किया गया। उन्हें सीने में दर्द की शिकायत पर भर्ती किया गया। आसाराम को तीन दिन पहले सीने में दर्द हुआ था। जिसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया था। लेकिन जांच के बाद वापस भेज दिया गया। गुरुवार रात को तबीयत खराब होने पर करीब 1:00 बजे उसे यहां भर्ती करवाया गया था। फिलहाल उसे आईसीयू में रखा गया है। आसाराम के स्वास्थ्य रिपोर्ट में शरीर में खून की कमी बताई गई है उसका हीमोग्लोबिन 8.7 रह गया है।

डॉक्टर्स उसके पेट में होने वाली आंतरिक ब्लीडिंग सहित परेशानियों का उपचार कर रहे हैं। इसके अलावा उसकी कई तरह की जांच भी हो रही है। आसाराम संगठन के अधिकृत एक्स हैंडल से लोगों को भीड़ नहीं करने का आग्रह किया गया है जिससे उपचार में कोई परेशानी नहीं हो।

उल्लेखनीय है कि 21 मार्च को राजस्थान हाईकोर्ट ने यौन उत्पीड़न के आरोप में सजा काट रहे आसाराम को जोधपुर के ही एक निजी आयुर्वेदिक अस्पताल में पुलिस सुरक्षा के बीच 10 दिन तक उपचार करवाने की अनुमति दी थी। जिसके तहत उसका उपचार महाराष्ट्र से आए आयुर्वेद के वैध ने किया था। जबकि आसाराम ने महाराष्ट्र के खपोली में उपचार करने के लिए प्रार्थना पत्र दिया था लेकिन महाराष्ट्र पुलिस ने सुरक्षा कारणों ने उपचार के लिए अनुमति नहीं दी थी।

नाबालिग के साथ यौन शोषण के आरोप में आसाराम को जोधपुर की अदालत में उसके प्राकृतिक जीवन तक आजीवन कारावास के सजा सुना रखी है। जिसके अनुसार आसाराम मृत्यु तक जेल में ही रहेगा। आसाराम की ओर से जमानत और पैरोल को लेकर दर्जनों प्रार्थना पत्र हाई कोर्ट सुप्रीम कोर्ट में लगाए गए लेकिन फिलहाल उसे कहीं से भी राहत नहीं मिली है।