ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानजयपुर में मंदिर में तोड़फोड़, महंत बोले-सिटी पैलेस के स्टाफ ने बंधक बनाया

जयपुर में मंदिर में तोड़फोड़, महंत बोले-सिटी पैलेस के स्टाफ ने बंधक बनाया

राजस्थान के जयपुर के सिटी पैलेस के बिल्कुल बगल में स्थित वेंकटेश्वर मंदिर की संपत्ति को लेकर विवाद हो गया है। मंदिर के महंत ने सिटी पैलेस स्टाफ के ऊपर मंदिर की जमीन पर कब्जा करने का आरोप लगाया है।

जयपुर में मंदिर में तोड़फोड़, महंत बोले-सिटी पैलेस के स्टाफ ने बंधक बनाया
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरFri, 10 May 2024 07:08 AM
ऐप पर पढ़ें

राजस्थान के जयपुर के सिटी पैलेस के बिल्कुल बगल में स्थित वेंकटेश्वर मंदिर की संपत्ति को लेकर विवाद हो गया है। मंदिर के महंत ने गुरुवार सुबह 4 बजे सिटी पैलेस स्टाफ के ऊपर मंदिर की जमीन पर कब्जा करने और परिवार को बंधकर बनाकर मारपीट करने का आरोप लगाया है। हालांकि सिटी पैलेस ने महंत के दावे को गलत बताया है। पूरे विवाद का एक वीडियो भी सामने आया है।दूसरी तरफ पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने इस मामले में बीजेपी पर जमकर निशाना साधा है। मंदिर महंत वेणुगोपाल ने आरोप लगाया था कि एसएमएस म्यूजियम ट्रस्ट यानी सिटी प्लेस के लोगों ने परिवार को बंधक बनाकर मंदिर की जमीन पर कब्जा करने का प्रयास किया। मंदिर परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे में पूरी घटना रिकॉर्ड हुई है। काफी लोग मंदिर परिसर में घुसते हुए नजर आ रहे हैं और बेरीकेटिंग भी करते हुए दिखाई दे रहे हैं।

मंदिर महंत परिवार ने पुलिस को भी सूचना दी, लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया। संपत्ति को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा है, मामला न्यायालय में चल रहा है। वही इस पूरे मामले को लेकर सिटी पैलेस के प्रशासक प्रमोद यादव का कहना था कि यह संपत्ति को लेकर कोर्ट ने सिटी पैलेस के पक्ष में फैसला दिया है। मौके पर किसी प्रकार का कोई झगड़ा या विवाद नहीं किया गया। देर शाम को इस पूरे मामले पर मंदिर महंत वेणुगोपाल अपने आरोपों को लेकर गोल मोल हो गए।  मंदिर महंत ने कहा कि हमारा किसी से झगड़ा नहीं है, जो लोग आए थे, उनको मैं ध्यान से नहीं देख पाया। काफी वर्षों से हमारा परिवार मंदिर में पूजा अर्चना कर रहा है। राजपरिवार का कोई दखल नहीं है।

सिटी पैलेस प्रशासक प्रमोद यादव ने मीडिया से बात करते हुए कहा की जमीन हमारे पास ही थी। कुछ दिन पहले कोर्ट से हमारे पक्ष में ऑर्डर भी आया। हमारा सामान काफी समय से रखा हुआ था। कोर्ट की ओर से थड़ी को हटाने का आदेश दिया गया था. मौके पर किसी प्रकार का झगड़ा नहीं हुआ है। शाम को मंदिर महंत वेणुगोपाल ने भी कह दिया कि 300 साल से मंदिर की सेवा कर रहे हैं. हमारा कोई झगड़ा नहीं है। कोर्ट में केस चल रहा था।  असामाजिक तत्वो की ओर से बैरिकेटिंग की गई, इसमें कौन लोग थे, मैं अच्छे से नहीं देख पाया. राज परिवार को बदनाम करने के लिए हम ने कुछ नहीं कहा. सिटी पैलेस की ओर से एडवोकेट ने कहा कि एसएमएस म्यूजियम ट्रस्ट ने संपत्ति को लेकर कोर्ट में 1986 में दावा किया था। 30 अप्रैल 2024 को कोर्ट ने संपत्ति एसएमएस म्यूजियम ट्रस्ट की मानते हुए ऑर्डर किया। कब्जा पहले से ही सिटी पैलेस के पास था। कोर्ट का फैसला हमारे हक में आया है और स्वामित्व भी हमारा है।