ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News राजस्थानराजस्थान में आज पर्यटन स्थलों पर फ्री एंट्री, इंटरनेशनल म्यूजियम डे पर पर्यटकों को सौगात

राजस्थान में आज पर्यटन स्थलों पर फ्री एंट्री, इंटरनेशनल म्यूजियम डे पर पर्यटकों को सौगात

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस पर आज राजस्थान के सभी संरक्षित स्मारक और संग्रहालयों में देशी-विदेशी पर्यटकों को फ्री प्रवेश दिया जा रहा है। वहीं, पर्यटकों को माला पहनाकर और तिलक लगाकर स्वागत किया।

राजस्थान में आज पर्यटन स्थलों पर फ्री एंट्री, इंटरनेशनल म्यूजियम डे पर पर्यटकों को सौगात
Prem Meenaलाइव हिंदुस्तान,जयपुरSat, 18 May 2024 10:47 AM
ऐप पर पढ़ें

अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस पर आज राजस्थान के सभी संरक्षित स्मारक और संग्रहालयों में देशी-विदेशी पर्यटकों को फ्री प्रवेश दिया जा रहा है। वहीं, पर्यटकों को माला पहनाकर और तिलक लगाकर स्वागत किया जा रहा है। अगर आज के दिन आप भी राजस्थान में घूमने की सोच रहे हैं तो फ्री में घूमने का मौका मत चूकिए। अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय दिवस पर पर्यटक स्थलों पर लोक कलाकारों की ओर से राजस्थानी लोक नृत्य प्रस्तुत किए जाएंगे।राजधानी के आमेर महल, हवामहल, अल्बर्ट हॉल संग्रहालय, जंतर-मंतर, नाहरगढ़ फोर्ट सहित अन्य सभी पर्यटन स्थलों पर पर्यटकों को नि:शुल्क प्रवेश दिया जाएगा। इसके साथ सुबह से ही पर्यटकों का स्वागत-सत्कार किया जाएगा। अल्बर्ट हॉल संग्रहालय में क्रूसेडर्स फॉर कल्चर विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। यह आयोजन पुरातत्व और संग्रहालय विभाग तथा कला एवं संस्कृति विभाग की ओर से द्रोण फाउंडेशन और जयपुर विरासत फाउंडेशन के सहयोग से किया जाएगा।

शाम 7 बजे आकाश दर्शन

वहीं, जंतर-मंतर में सुबह 11 बजे ज्योतिषविदों की ओर से जंतर-मंतर के यंत्रों के बारे में जानकारी दी जाएगी, वहीं शाम 7 बजे आकाश दर्शन कराए जाएंगे।
8 दिवसीय हैंडलूम प्रदर्शनी। आमेर महल में शुक्रवार को 8 दिवसीय हैंडलूम प्रदर्शनी की शुरुआत हुई। यह प्रदशनी 24 मई तक रोजाना सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक खुली रहेगी।बता दें हर साल 18 मई को संग्रहालय और इतिहास के प्रति जागरूकता के लिए वर्ल्ड म्यूजियम डे मनाया जाता है। देश भर में ऐसे कई म्यूजियम हैं, जिनमें इतिहास की यादों को संजोकर रखा गया है, लेकिन राजधानी में एक ऐसा म्यूजियम है, जिसमें दुनिया भर के बेशकीमती रत्नों का खजाना देखने को मिलता है। जयपुर के खजाना महल म्यूजियम में पत्थरों से निकलकर जेम स्टोन बनने और फिर गहनों में ढलने तक का सफर दिखाया गया है। खजाना महल म्यूजियम में देश-दुनिया के 400 प्रकार के 20,000 से अधिक जेमस्टोन देखे जा सकते हैं। एक ही छत के नीचे पूरे विश्व में पाए जाने वाले स्टोन यहां पर है। उल्का पिंड और टूटता तारा भी यहां देखने को मिलता है।