DA Image
29 सितम्बर, 2020|6:25|IST

अगली स्टोरी

राजस्थान में दो भागों में बंटा आयकर विभाग, प्रधान आयुक्तों के क्षेत्राधिकार तय

this kind of income tax came the pockets of the railway employees were empty on holi

केंद्रीय वित्त मंत्रालय की नई गाइडलाइन के दिशा-निर्देशों के तहत राजस्थान में आयकर विभाग में व्यापक परिवर्तन किया गया है। नई व्यवस्था में राजस्थान में आयकर विभाग को दो भागों में बांट दिया गया है. रीजनल असेसमेंट यूनिट का स्थानीय करदाताओं से कोई संबंध नहीं होगा, जबकि ज्यूरीडिक्शन यूनिट में आयकर अधिकारी, सहायक आयकर आयुक्त और आयकर उप आयुक्त स्तर के अधिकारी होंगे। इस यूनिट के पास असेसमेंट के अलावा अन्य सभी कामों के लिए क्षेत्राधिकार होंगे।

विभाग की नई व्यवस्था का मकसद प्रत्यक्ष कर के करदाताओं को करप्रणाली में पारदर्शिता उपलब्ध कराने, टैक्सेशन के मामले में करदाताओं और विभागीय अधिकारियों के बीच सीधे संपर्क को समाप्त करने, करदाताओं के टैक्सेशन में किसी विवाद को दूर करने के लिए अंतिम छोर तक सुनवाई का अधिकार देने की व्यवस्था की गई है।

जयपुर में अब प्रधान आयकर आयु्क्त प्रथम एवं प्रधान आयकर आयुक्त सेकंड के कार्यालय होंगे। अलवर, भरतपुर, धौलपुर, दौसा व जयपुर जिले की कोटपूतली, शाहपुरा, विराटनगर तहसील अब जयपुर प्रधान आयकर आयुक्त प्रथम के क्षेत्राधिकार में शामिल हो गए हैं। प्रधान आयकर आयुक्त प्रथम के क्षेत्राधिकार में अलवर को शामिल करते हुए कुल 6 नए आयकर वॉर्ड्स और नए आयकर सर्किल बनाए गए हैं। नए वॉर्डस में बेहरोड़, भिवाड़ी, दौसा, भरतपुर, अलवर 1(1),अलवर1(2) रखे गए हैं। प्रधान आयकर आयुक्त प्रथम की रेंज-1 में जयपुर के प्रधान आयकर आयुक्त का पुराना क्षेत्राधिकार बना रहेगा. इसमें 5 आयकर वॉर्ड व एक आयकर सर्कल होगा। जबकि पुरानी क्षेत्राधिकार की रेंज-1, 2, 3 के 15 वॉर्डस को अब 5 वॉर्डस में बांट दिया गया है।

वहीं, जयपुर जिले के प्रधान आयकर आयुक्त सेकंड के क्षेत्राधिकार में रेंज-2 को शामिल किया गया है, जिसमें जयपुर की पुरानी रेंज 5 व7 नए वॉर्ड बनाए गए हैं। नए वॉर्ड्स में वॉर्ड 5(1), वॉर्ड 5(2),टोंक, व वॉर्ड 7(1), 7(2) रखा गया है. प्रधान आयकर आयुक्त सेकंड के क्षेत्राधिकार में ही आयकर रेंज-3 को रखा गया है, जिसमें जयपुर जोन की पुरानी रेंज-6 के ही 5 वॉर्ड बना दिए। इनमें वॉर्ड संख्या 6(1), वॉर्ड संख्या 6(2),वॉर्ड संख्या 6(3), वॉर्ड संख्या 6(4), वॉर्ड संख्या 6(5)व एक सर्कल बनाया गया है। प्रधान आयकर आयुक्त सेकंड के क्षेत्राधिकार में ही रेंज-4 को रखा गया है, जिसमें जयपुर जोन की पुरानी रेंज 4 जयपुर, रेंज सीकर, रेंज झुन्झुनू के 6 वॉर्ड व एक सर्कल बनाए गए हैं। इसमें नीम का थाना, चुरू, झुन्झुनू , सीकर व वॉर्ड संख्या 4(1),वॉर्ड संख्या 4(2) रखे गए हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Income tax department divided into two parts in Rajasthan jurisdiction of Principal Commissioners fixed